मनुष्‍य पुण्‍य का फल सुख चाहता है,
परंतु पुण्‍य करना नहीं चाहता
और पाप का फल दु:ख नहीं चाहता है
पर पाप छोड़ना नहीं चाहता है।
इसीलिए सुख मिलता नहीं है
और दु:ख भोगना पड़ता है।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s