जिन्दंगी को समझना बहुत मुश्किल हैं..

कोई “सपनो” की खातिर
“अपनों” से दूर रहता हैं..

तो कोई “अपनों” के खातिर
“सपनों” से दूर हो जाता है

Advertisements