Hindi dard e dil shayari

तेरे दर पर बैठकर शाम से सहर(सुबह) हुई…

पर क्यों मेरे इंतजार की तुझको ना खबर हुई…❣️