जीवन में सुख हो..

“जीवन” में “सुख” हो,
पर “शान्ति” ना हो,
तब “समझ” लीजिए कि..

आप “सुविधा” को “गलती” से
“सुख” समझ रहे हैं..!!