0 comments on “Hindi suvichar”

Hindi suvichar

चरित्र एक वृक्ष है और
प्रतिष्ठा यश सम्मान उसकी छाया!!

लेकिन विडंबना यह है कि,
वृक्ष का ध्यान बहुत कम लोग रखते हैं,
और छाया सबको चाहिए..!!

0 comments on “Hindi suvichar”

Hindi suvichar

दिल से चाहो तो सजा देते है लोग,
सच्चे जज्बात भी ठुकरा देते है लोग ।।

क्या देखेंगे दो इन्सानो का मिलन,
साथ बैठे दो परिंदों को भी उड़ा देते है लोग ।।