Bewafa Shayari in Hindi | बेवफा शायरी | 150+

Bewafa Shayari - सिला दिया

Har Bhool Teri Maaf Ki Teri Har Khata Ko Bhula Diya,
Gam Hai Ki Mere Pyar Ka Tu Ne Bewafai Sila Diya.

हर भूल तेरी माफ़ की तेरी हर खता को भुला दिया,
गम है कि मेरे प्यार का तूने बेवफाई सिला दिया।

Bewafa Shayari - बेवफ़ाई की

Wakif Toh The Teri Bewafai Ki Aadat Se,
Chaha Isliye Ke Teri Fitrat Badal Jaye.

वाकिफ तो थे तेरी बेवफ़ाई की आदत से,
चाहा इसलिए कि तेरी फितरत बदल जाये।

Bewafa Shayari - अल्फाज़ यही

Jaate-Jaate Uske Aakhiri Alfaz Yahi The,
Jee Sako Toh Jee Lena Mar Jaao Toh Behtar Hai.

जाते-जाते उसके आखिरी अल्फाज़ यही थे,
जी सको तो जी लेना मर जाओ तो बेहतर है।

Bewafa Shayari - हुस्न वालों

Sirf Ek Hi Baat Seekhi Inn Husn Walon Se Humne,
Haseen Jis Ki Jitni Adaa Hai Woh Utna Hi Bewafa Hai.

सिर्फ एक ही बात सीखी इन हुस्न वालों से हमने​​,
​हसीन जिसकी जितनी अदा है वो उतना ही बेवफा है।

Bewafa Shayari - बेवफ़ाई का

Mujhe Shiqwa Nahi Kuchh Bewafai Ka Teri Hargij,
Gila Toh Tab Ho Agar Tu Ne Kisi Se Nibhai Ho.

मुझे शिकवा नहीं कुछ बेवफ़ाई का तेरी हरगिज़,
गिला तो तब हो अगर तूने किसी से निभाई हो।

Bewafa Shayari - मेरे फन को

Mere Fan Ko Tarasha Hai Sabhi Ke Nek Iraadon Ne,
Kisi Ki Bewafai Ne Kisi Ke Jhoothhe Vaadon Ne.

मेरे फन को तराशा है सभी के नेक इरादों ने,
किसी की बेवफाई ने किसी के झूठे वादों ने।

Bewafa Shayari - धीरे से

Mehfil Mein Gale Mil Ke Wo Dheere Se Kah Gaye,
Ye Duniya Ki Rasm Hai Mohabbat Na Samajh Lena.

महफ़िल में गले मिल के वो धीरे से कह गए,
ये दुनिया की रस्म है मोहब्बत न समझ लेना।

Bewafa Shayari - तस्लीम कर लें

Ab Ke Ab Tasleem Kar Lein Tu Nahi Toh Main Sahi,
Kaun Manega Ke Hum Mein Se Bewafa Koi Nahi.

अब के अब तस्लीम कर लें तू नहीं तो मैं सही,
कौन मानेगा कि हम में से बेवफा कोई नहीं।

Bewafa Shayari - बेवफाई को

Kaise Bura Kah Doon Teri Bewafai Ko,
Yahi Toh Hai Jisne Mujhe MashHoor Kiya Hai.

कैसे बुरा कह दूँ तेरी बेवफाई को,
यही तो है जिसने मुझे मशहूर किया है।

Bewafa Shayari - बेरुखी से

Humse Na Kariye Baatein Yun Berukhi Se Sanam,
Hone Lage Ho Kuchh Kuchh Bewafa Se Tum.

हमसे न करिये बातें यूँ बेरुखी से सनम,
होने लगे तो कुछ कुछ बेवफा से तुम।

Bewafa Shayari - सोच में गुम हैं

Ungliyan Aaj Bhi Isee Soch Mein Gum Hain,
Ke Kaise Usne Naye Haath Ko Thama Hoga.

उँगलियाँ आज भी इसी सोच में गुम हैं,
कि कैसे उसने नए हाथ को थामा होगा।

Personality Development In Hindi

Bewafa Shayari - मानो बेवफा हो

Koi Yaad Nahin Rakhta Wafa Karne Walon Ko,
Meri Maano Bewafa Ho Lo Zamana Yaad Rakhega.

कोई नहीं याद रखता वफ़ा करने वालों को,
मेरी मानो बेवफा हो लो जमाना याद रखेगा।

Bewafa Shayari - टूट के

Mil Hi Jayega Koi Na Koi Toot Ke Chahne Wala,
Ab Shahar Ka Shahar Toh Bewafa Ho Nahi Sakta.

मिल ही जाएगा कोई ना कोई टूट के चाहने वाला,
अब शहर का शहर तो बेवफा हो नहीं सकता।

Bewafa Shayari - किस-किस से

Hum Zamane Mein Yun Hi Bewafa MashHoor Ho Gaye Dost,
Hajaro Chahne Wale The Kis-Kis Se Wafa Karte.

हम जमाने में यूँ ही बेवफ़ा मशहूर हो गये दोस्त,
हजारों चाहने वाले थे किस-किस से वफ़ा करते।

Bewafa Shayari - दुनिया में

Iss Duniya Mein Wafa Karne Walon Ki Koi Kami Nahi,
Bas Pyar Hi Uss Se Ho Jata Hai Jo Bewafa Ho.

इस दुनिया में वफ़ा करने वालों की कमी नहीं,
बस प्यार ही उससे हो जाता है जो बेवफा हो।

Read Attitude Shayari

Bewafa Shayari - उम्मीद

Iss Daur Mein Ki Thi Jis Se Wafaa Ki Ummeed,
Aakhir Ko Usi Ke Haath Ka Patthar Laga Mujhe.

इस दौर में की थी जिस से वफ़ा की उम्मीद,
आखिर को उसी के हाथ का पत्थर लगा मुझे।

Bewafa Shayari - तेरी मोहब्बत

Kaise Yakeen Karein Hum Teri Mohabbat Ka,
Jab Bikti Hai Bewafai Tere Hi Naam Se.

कैसे यकीन करें हम तेरी मोहब्बत का,
जब बिकती है बेवफाई तेरे ही नाम से।

Bewafa Shayari - क़यामत

ilaahi Kyun Nahi Uthhti Qayamat Majra Kya Hai,
Humare Samne Pahlu Mein Woh Dushman Ke Baithe Hain.

इलाही क्यूँ नहीं उठती क़यामत माजरा क्या है,
हमारे सामने पहलू में वो दुश्मन के बैठे हैं।

Bewafa Shayari - उसकी ख्वाहिश

Uski Khwahish Hai Ke Angan Mein Utare Suraj,
Bhul Baitha Hai Ke Khud Mom Ka Ghar Rakhta Hai.

उसकी ख्वाहिश है कि आँगन में उतरे सूरज,
भूल बैठा है कि खुद मोम का घर रखता है।

Bewafa Shayari - क्या मिलाओगे

Dil Kya Milaoge Ke Humein Ho Gaya Yakeen,
Tum Se Toh Khaak Mein Bhi Milaya Na Jayega.

दिल क्या मिलाओगे कि हमें हो गया यक़ीं,
तुम से तो ख़ाक में भी मिलाया न जाएगा।

Bewafa Shayari - मेरे जिस्म से

Roye Kuchh Iss Tarah Se Mere Jism Se Lagke Wo,
Aisa Laga Ke Jaise Kabhi BeWafa Na The Wo,

रोये कुछ इस तरह से मेरे जिस्म से लग के वो,
ऐसा लगा कि जैसे कभी बेवफा न थे वो।

Bewafa Shayari - इल्तज़ा भी

Jo Hukum Karta Hai Wo Iltija Bhi Karta Hai,
Aasman Bhi Kahin Jakar Jhuka Karta Hai,
Aur Tu Bewafa Hai Toh Yeh Khabar Ye Bhi Sun Le,
Intezaar Mera Koi Waha Bhi Karta Hai.

जो हुकुम करता है वो इल्तज़ा भी करता है,
आसमान भी कहीं जाकर झुका करता है,
और तू बेवफा है तो ये खबर भी सुन ले,
इन्तज़ार मेरा कोई वहाँ भी करता है।

Bewafa Shayari - हाल पे छोड़ा

Jaa Tujh Ko Tere Haal Pe Chhoda,
Iss Se Behter Teri Saza Bhi Kya Hai.

जा तुझ को तेरे हाल पे छोड़ा,
इस से बेहतर तेरी सजा भी क्या है।

Bewafa Shayari - वही बेवफ़ा

Tum Agar Yaad Rakhoge Toh Inayat Hogi,
Varna Humko Kahan Tum Se Shikayat Hogi,
Yeh Toh Wahi Bewafa Logon Ki Dunia Hai,
Tum Agar Bhool Bhi Jaao Toh Riwayat Hogi.

तुम अगर याद रखोगे तो इनायत होगी,
वरना हमको कहाँ तुम से शिकायत होगी,
ये तो वही बेवफ़ा लोगों की दुनिया है,
तुम अगर भूल भी जाओ जो रिवायत होगी।

Bewafa Shayari - अब देखिये

Ab Dekhiye Toh Kis Ki Jaan Jaati Hai,
Maine Uski Aur Usne Meri Qasam Khayi Hai.

अब देखिये तो किस की जान जाती है,
मैंने उसकी और उसने मेरी कसम खायी है।

Bewafa Shayari - बरसों कि

Agle Barson Ki Tarah Honge Qarine Tere
Kise Malum Nahi Barah Maheene Tere.

अगले बरसों कि तरह होंगे करीने तेरे,
किसे मालुम नहीं बारह महीने तेरे।

Bewafa Shayari - तेरी तो

Teri Toh Fitrat Thi
Sabse Mohabbat Karne Ki,
Hum Bewajah Khud Ko
KhushNaseeb Samjhne Lage.

तेरी तो फितरत थी
सबसे मोहब्बत करने की,
हम बेवजह खुद को
खुशनसीब समझने लगे।

Bewafa Shayari - मेरी मोहब्बत

Itni Mushkil Bhi Na Thi
Raah Meri Mohabbat Ki,
Kuchh Zamana Khilaaf Hua
Kuchh Woh Bewafa Ho Gaye.

इतनी मुश्किल भी ना थी
राह मेरी मोहब्बत की,
कुछ ज़माना खिलाफ हुआ
कुछ वो बेवफा हो गए।

Bewafa Shayari - तेरी मोहब्बत

Teri Mohabbat Ne Diya Sukoon Itna,
Ki Tere Baad Koi Achha Na Lage,
Tujhe Karni Hai Bewafi Iss Adaa Se Kar,
Ki Tere Baad Koi Bhi Bewafa Na Lage.

तेरी मोहब्बत ने दिया सुकून इतना,
कि तेरे बाद कोई अच्छा न लगे,
तुझे करनी है बेवफ़ाई तो इस अदा से कर,
कि तेरे बाद कोई भी बेवफ़ा न लगे।

Bewafa Shayari - हाथ मिलाना

Duniya Ko Apna Chehra Dikhana Pada Mujhe,
Parda Jo Darmiyan Tha Hatana Pada Mujhe,
Ruswaiyon Ke Khauf Se Mehfil Mein Aaj,
Phir Iss Bewafa Se Haath Milana Pada Mujhe.

दुनियाँ को अपना चेहरा दिखाना पड़ा मुझे,
पर्दा जो दरमियां था हटाना पड़ा मुझे,
रुसवाईयों के खौफ से महफिल में आज,
फिर इस बेवफा से हाथ मिलाना पड़ा मुझे।

Bewafa Shayari - रहने दे

Rehne De Yeh Kitaab Tere Kaam Ki Nahi,
Iss Mein Likhe Hue Hain Wafaaon Ke Tazkare.

रहने दे ये किताब तेरे काम की नहीं,
इस में लिखे हुए हैं वफाओं के तज़करे।

Bewafa Shayari - जल गये

Hum Toh Jal Gaye
Uski Mohabbat Mein Mom Ki Tarah,
Phir Bhi Koi Bewafa Kahe
Toh Uski Wafa Ko Salam.

हम तो जल गये
उसकी मोहब्बत में मोमकी तरह,
फिर भी कोई बेवफा कहे
तो उसकी वफ़ा को सलाम।

Bewafa Shayari - जुबाँ उनकी

Najar Unki Juban Unki
Ajab Hai Ke Iss Par Bhi,
NaJar Kuchh Aur Kehti Hai
Juban Kuchh Aur Kehti Hai.

नजर उनकी जुबाँ उनकी
अजब है कि इस पर भी,
नजर कुछ और कहती है
जुबाँ कुछ और कहती है।

Bewafa Shayari - तर्क-ए-मोहब्बत

Use Ke Yun Tark-e-Mohabbat Ka
Sabab Hoga Koi,
Jee Nahi Ye Manta
Woh Bewafa Pahle Se Tha.

उस के यूँ तर्क-ए-मोहब्बत का
सबब होगा कोई,
जी नहीं ये मानता
वो बेवफ़ा पहले से था।

Bewafa Shayari - क़ाबिल नही

Meri Wafa Ke Kabil Nahin Ho Tum,
Pyar Mile Aise Insaan Nahin Ho Tum,
Dil Kyon Tum Par Aitabaar Kare,
Pyar Mein Dhoka De Aise Bewafa Ho.

मेरी वफा के क़ाबिल नही हो तुम,
प्यार मिले ऐसे इन्सान नही हो तुम,
दिल क्या तुम पर ऐतबार करेगा,
प्यार मे धोखा दिया ऐसे बेवफा हो तुम।

Bewafa Shayari - फ़ुलो के साथ

Phool Ke Sath Kante Bhi Naseeb Hote Hai,
Khushi Ke Sath Gham Bhi Naseeb Hota Hai,
Yu Toh Majboori Le Dubti Hai Har Aashiq Ko,
Warna Khushi Se Bewafa Kaun Hota Hai.

फ़ुलो के साथ कांटे नसिब होते है,
ख़ुशी के साथ गम भी नसिब होता है,
यु तो मजबुरी ले डुबती हर आशिक को,
वरना ख़ुशी से बेवफ़ा कौन होता है?

Bewafa Shayari - रुला दिया

Aaj Tumhari Yaad Ne Mujhe Rula Diya,
Kya Karun Tumne Jo Mujhe Bhula Diya,
Na Karte Wafa Na Milti Ye Saza,
Meri Wafa Ne Tujhe Bewafa Bana Diya.

आज तुम्हारी याद ने मुझे रुला दिया,
क्या करूँ तुमने जो मुझे भुला दिया,
न करते वफ़ा न मिलती ये सजा,
मेरी वफ़ा ने तुझे बेवफा बना दिया।

Bewafa Shayari - सर झुका लेगा

Najar Najar Se Milegi Toh Sar Jhuka Lega,
Woh Bewafa Hai Mera Imtihaan Kya Lega,
Use Chiraag Jalaane Ko Mat Kah Dena.
Woh Nasamjh Hai Kahin Ungliyan Jala Lega.

नजर नजर से मिलेगी तो सर झुका लेगा,
वह बेवफा है मेरा इम्तिहान क्या लेगा,
उसे चिराग जलाने को मत कह देना,
वह नासमझ है कहीं उंगलियां जला लेगा।

Bewafa Shayari - ये बेवफा

Yeh Bewafa Wafa Ki Keemat Kya Jaane,
Hai Bewafa Gham-e-Mohabbat Kya Jaane,
Jinhein Milta Hai Har Morh Par Naya Humsafar,
Woh Bhala Pyar Ki Keemat Kya Jaane.

ये बेवफा वफा की कीमत क्या जाने,
है बेवफा गम-ऐ-मोहब्बत क्या जाने,
जिन्हें मिलता है हर मोड़ पर नया हमसफर,
वो भला प्यार की कीमत क्या जाने।

Bewafa Shayari - जीने की चाहत

Agar Duniya Mein Jeene Ki Chahat Na Hoti,
Toh Khuda Ne Mohabbat Banayi Na Hoti,
Iss Tarah Log Marne Ki Aazoo Na Karte,
Agar Mohabbat Mein Bewafai Na Hoti.

अगर दुनिया में जीने की चाहत ना होती,
तो खुदा ने मोहब्बत बनाई ना होती,
इस तरह लोग मरने की आरज़ू ना करते,
अगर मोहब्बत में बेवफ़ाई ना होती।

Bewafa Shayari - तन्हाई मार गयी

Kabhi Gham Toh Kabhi Tanhai Maar Gayi,
Kabhi Yaad Aakar Unki Judai Maar Gayi,
Bahut Toot Kar Chaha Jisko Humne,
Aakhir Mein Uski Bewafai Maar Gayi.

कभी ग़म तो कभी तन्हाई मार गयी,
कभी याद आ कर उनकी जुदाई मार गयी,
बहुत टूट कर चाहा जिसको हमने,
आखिर में उनकी ही बेवफाई मार गयी।

Bewafa Shayari - तेरा ख़याल

Tera Khayal Dil Se Mitaya Nahi Abhi,
BeWafa Maine Tujhko Bhulaya Nahi Abhi.

तेरा ख़याल दिल से मिटाया नहीं अभी,
बेवफा मैंने तुझको भुलाया नहीं अभी।

Bewfa Shayari - मालूम है

Mujhe Malum Hai Hum Unke Bina Jee Nahi Sakte,
Unka Bhi Yehi Haal Hai Magar Kisi Aur Ke Liye.

मुझे मालूम है हम उनके बिना जी नहीं सकते,
उनका भी यही हाल है मगर किसी और के लिये।

Bewfa Shayari - ये हाल

Teri Bewafai Ne Humara Yeh Haal Kar Diya Hai,
Hum Nahi Rote Log Humein Dekhkar Rote Hain.
तेरी बेवफाई ने हमारा ये हाल कर दिया है,
हम नहीं रोते लोग हमें देख कर रोते हैं।

Bewfa Shayari - बर्बाद कर देते

Bewafaon Ki Iss Duniya mein SanbhalKar Chalna,
Yehan Mohabbat Se Bhi Barbaad Kar Dete Hain Log.

बेवफाओं की इस दुनियां में संभलकर चलना,
यहाँ मुहब्बत से भी बर्बाद कर देते हैं लोग।

Bewfa Shayari - महबूब पे नाज़

Jab Tak Na Lage Ek Bewafai Ki Thokar,
Har Kisi Ko Apne Mahboob Pe Naaz Hota Hai.

जब तक न लगे एक बेवफाई की ठोकर,
हर किसी को अपने महबूब पे नाज़ होता है।

Bewfa Shayari - काबिल था

Mila Ke Khaq Mein Dil Ko Woh Iss Andaaz Mein Bole,
Mitti Ka Khilona Tha Kahan Rakhne Ke Qabil Tha.

मिला के खाक में दिल को वो इस अंदाज़ में बोले,
मिट्टी का खिलौना था, कहाँ रखने के काबिल था।

Bewfa Shayari - आँखें खूब रोयेंगीं

Jigar Ho Jayega Chhalni Aankhein Khoob Royengi,
BeWafa Logon Se Nibha Kar Ke Kuchh Nahi Milta.

जिगर हो जायेगा छलनी आँखें खूब रोयेंगीं,
बेवफा लोगों से निभा कर के कुछ नहीं मिलता।

Bewfa Shayari - भूल जाते हैं

Bewafa Duniya Mein Kaun Saari Zindagi Sath Dega Tera,
Log Toh Dafna Kar Bhul Jate Hain Ke Qabr Kaun Si Thi.

बेवफा दुनिया में कौन सारी जिंदगी साथ देगा तेरा,
लोग तो दफना कर भूल जाते हैं कि कब्र कौन सी थी।

Bewfa Shayari - दाद दिया करते हैं

Mohabbat Se Bhari Koyi Ghazal Use Pasand Nahi,
Bewafai Ke Har Sher Pe Woh Daad Diya Karte Hain.

मोहब्बत से भरी कोई ग़ज़ल उसे पसंद नहीं,
बेवफाई के हर शेर पे वो दाद दिया करते हैं।

Bewafa Shayari - बेवफाई पे भी

Uski Bewafai Pe Bhi Fida Hoti Hai Jaan Apni,
Agar Uss Mein Wafa Hoti To Kya Hota Khuda Jane.

उसकी बेवफाई पे भी फ़िदा होती है जान अपनी,
अगर उस में वफ़ा होती तो क्या होता खुदा जाने।

Bewafa Shayari - लम्हा क़यामत की

Kisi Ka Rooth Jana Aur Achanak Bewafa Hona,
Muhabbat Mein Yehi Lamha Qayamat Ki Nishani Hai.

किसी का रूठ जाना और अचानक बेवफा होना,
मोहब्बत में यही लम्हा क़यामत की निशानी है।

Bewafa Shayari - हम बेवफा हैं

Hum Bewafa Hain Elaan Kiye Dete Hain,
Chal Tere Kaam Ko Aasaan Kiye Dete Hain.

हम बेवफा हैं ऐलान किये देते हैं,
चल तेरे काम को आसान किये देते हैं।

Bewafa Shayari - आख़िर तुम भी

Aakhir Tum Bhi Ayine Ki Tarah Hi Nikle,
Jo Bhi Saamne Aaya Tum Usi Ke Ho Gaye.

आख़िर तुम भी आइने की तरह ही निकले,
जो भी सामने आया तुम उसी के हो गए।

Bewafa Shayari - सूरत दे दे

Chahte Hain Woh Har Roj Naya Chahne Wala,
Aye Khuda Mujhe Roj Ik Nayi Soorat De De.

चाहते हैं वो हर रोज़ नया चाहने वाला.
ऐ खुदा मुझे रोज़ इक नई सूरत दे दे।

Bewafa Shayari - लाचारी है

Na Koi Majburi Hai Na To Lachari Hai,
Bewafai Uski Paidayshi Beemari Hai.

न कोई मज़बूरी है न तो लाचारी है,
बेवफाई उसकी पैदायशी बीमारी है।

Bewafa Shayari - दास्ताँ सुनाने का

Mujhe Bhi Shauq Na Tha Daastan Sunaane Ka,
Mohsin Usne Bhi Poocha Tha Haal Waise Hi.

मुझे भी शौक़ न था दास्ताँ सुनाने का,
मोहसिन उस ने भी पूछा था हाल वैसे ही।

Bewafa Shayari - वफाओ के किस्से

Woh Suna Rahe The Apni Wafao Ke Kisse,
Hum Par Najar Padi Toh Khamosh Ho Gaye.

वो सुना रहे थे अपनी वफाओ के किस्से,
हम पर नज़र पड़ी तो खामोश हो गए।

Bewafa Shayari - जिंदा हूँ

Kuchh Toh BeWafai Hai Mujh Mein Bhi,
Jo Ab Tak Zinda Hun Tere Bagair.

कुछ तो बेवफाई है मुझ में भी,
जो अब तक जिंदा हूँ तेरे बग़ैर।

Bewafa Shayari - कम देखते हैं

Humari Taraf Ab Woh Kam Dekhte Hain,
Yeh Woh Najrein Nahi Jinko Hum Dekhte Hain.

हमारी तरफ अब वो कम देखते हैं,
ये वो नजरें नहीं जिनको हम देखते हैं।

Bewafa Shayari - बेवफा न निकले

Intezar Hum Saari Umr Kar Lenge,
Bas Khuda Kare Tu Bewafa Na Nikle.

इंतजार हम सारी ऊम्र कर लेंगे
बस खूदा करे तू बेवफा न निकले।

Bewafa Shayari - गिरी नहीं

Main Rokna Hi Nahi Chahta Tha Waar Uska,
Giri Nahi Mere Haathon Se Dhaal Wise Hi.

मैं रोकना ही नहीं चाहता था वार उस का,
गिरी नहीं मेरे हाथों से ढाल वैसे ही।

Bewafa Shayari - बेवफा निकला

Dil Bhi Gustaakh Ho Chala Tha Bahut,
Shukr Hai Ki Yaar Hi Bewafa Nikla.

दिल भी गुस्ताख हो चला था बहुत,
शुक्र है की यार ही बेवफा निकला।

Bewafa Shayari - नसीब अपना

Hum Aa Gaye Hain Teh-E-Daam Toh Naseeb Apna,
Wagarna Usne Toh Phenka Tha Jaal Waise Hi.

हम आ गए हैं तह-ए-दाम तो नसीब अपना,
वरना उस ने तो फेंका था जाल वैसे ही।

Bewafa Shayari - तुम्हारा ख्याल

Chala Tha Zikr Zamaane Ki Bewafai Ka,
Toh Aa Gaya Hai Tumhara Khyaal Waise Hi.

चला था ज़िकर ज़माने की बेवफाई का,
सो आ गया है तुम्हारा ख्याल वैसे ही।

Bewafa Shayari - जान पर वबाल

Tujhe Hai Mashq-E-Sitam Ka Malaal Waise Hi,
Humari Jaan Hain Jaan Par Wabaal Waise Hi.

तुझे है मशक-ए-सितम का मलाल वैसे ही,
हमारी जान थी, जान पर वबाल वैसे ही।

Bewafa Shayari - मुझे छोड़ देना

Bewafa Kehne Se Pehle Meri Rag Rag Ka Khoon Nichod Lene,
Katre Katre Mein Wafa Na Mile To Beshak Mujhe Chhod Dena.

बेवफा कहने से पहले मेरी रग रग का खून निचोड़ लेना,
कतरे कतरे से वफ़ा ना मिले तो बेशक मुझे छोड़ देना।

Bewafa Shayari - मुकाबला इश्क से

Itna Hi Guroor Hai To Muqabla Ishq Se Kar Ai Bewafa,
Husn Par Kya Itrana Jo Bas Mehman Hai Kuchh Din Ka.

इतना ही गुरुर है तो मुकाबला इश्क से कर ऐ बेवफा,
हुस्न पर क्या इतराना जो बस मेहमान है कुछ दिन का।

Bewafa Shayari - वफ़ा की तलाश है

Kho Gayi Meri Mohabbat Bewafai Ke Daldal Mein,
Magar Inn Aankho Ko Ab Bhi Wafa Ki Talash Hai.

खो गयी मेरी मोहब्बत, बेवफ़ाई के दलदल में,
मगर इन आँखो को अब भी वफ़ा की तलाश है।

Bewafa Shayari - या मार के जाऊं

Jaate Jaate Uss Ne Palatkar Sirf Itna Kaha Mujh Se,
Meri Bewafai Se Hi Mar Jaoge Ya Maar Ke Jaaun.

जाते जाते उसने पलटकर सिर्फ इतना कहा मुझसे,
मेरी बेवफाई से ही मर जाओगे या मार के जाऊं।

Bewafa Shayari - मोहब्बत सच्ची है

Meri Mohabbat Sachchi Hai Iss Liye Teri Yaad Aati Hai,
Agar Teri Bewafai Sachchi Hai Toh Ab Yaad Mat Aana.

मेरी मोहब्बत सच्ची है इसलिए तेरी याद आती है,
अगर तेरी बेवफाई सच्ची है तो अब याद मत आना।

Bewafa Shayari - तेरी बेवफाई की

Meri Aankho Se Behne Wala Yeh Awara Sa Aansoo,
Poochh Raha Hai Palkon Se Teri Bewafai Ki Wajah.

मेरी आँखों से बहने वाला ये आवारा सा आसूँ
पूछ रहा है पलकों से तेरी बेवफाई की वजह।

Bewafa Shayari - सोचा ही नहीं था

Aap Bewafa Honge Socha Hi Nahi Tha,
Aap Kabhi Khafa Honge Socha Hi Nahi Tha,
Jo Geet Likhe The Kabhi Pyaar Par Tere,
Wohi Geet Ruswa Honge Socha Hi Nahi Tha.

आप बेवफा होंगे सोचा ही नहीं था,
आप भी कभी खफा होंगे सोचा नहीं था,
जो गीत लिखे थे कभी प्यार पर तेरे,
वही गीत रुसवा होंगे सोचा ही नहीं था।

Bewafa Shayari - इम्तिहान

beWafa Ke Badle Bewafai Na Diya Kar,
Meri Ummeed Thukra Kar Inkaar Na Kiya Kar,
Teri Mohabbat Mein Hum Sab Kuchh Gawa Baithe,
Jaan Chali Jayegi Yun Imtihaan Na Liya Kar.

वफा के बदले बेवफाई ना दिया कर,
मेरी उमीद ठुकरा कर इन्कार ना किया कर,
तेरी मौहब्बत में हम सब कुछ गवां बैठे,
जान चली जायेगी इम्तिहान ना लिया कर।

Bewafa Shayari - तलबगार मिला

Hame Na Mohabbat Mili Na Pyaar Mila,
Hum Ko Jo Bhi Mila Bewafa Yaar Mila,
Apni Toh Ban Gayi Tamasha Zindgi,
Har Koyi Maqsad Ka Talabgaar Mila.

हमें न मोहब्बत मिली न प्यार मिला,
हम को जो भी मिला बेवफा यार मिला,
अपनी तो बन गई तमाशा ज़िन्दगी,
हर कोई मकसद का तलबगार मिला।

Bewafa Shayari - बेवफा कहना

Teri Chaukhat Se Sar Uthau Toh Bewafa Kehna,
Tere Siwa Kisi Aur Ko Chaahu Toh Bewafa Kehna,
Meri Wafaon Pe Shaq Hai Toh Khanzar Utha Lena,
Main Shauq Se Na Mar Jayun Toh Bewafa Kehna.

तेरी चौखट से सिर उठाऊं तो बेवफा कहना,
तेरे सिवा किसी और को चाहूँ तो बेवफा कहना,
मेरी वफाओं पे शक है तो खंजर उठा लेना,
मैं शौक से मर ना जाऊं तो बेवफा कहना।

बेवफा शायरी - क़सूर किसका था

Dimag Pe Zor Dal Ke Ginte Ho Galtiyan Meri,
Kabhi Dil Pe Hath Rakh Ke Puchho Qasoor Kiska Tha.

दिमाग पर जोर डाल के गिनते हो गलतियाँ मेरी,
कभी दिल पे हाथ रख के पूछो क़सूर किसका था।

बेवफा शायरी - तुम बेवफा नहीं

Tum Bewafa Nahi Yeh Toh Dadhkane Bhi Kehti Hain,
Apni Majboorion Ka Ek Paigaam Toh Bhej Dete.

तुम बेवफा नहीं ये तो धड़कनें भी कहती हैं,
अपनी मज़बूरिओं का एक पैगाम तो भेज देते।

बेवफा शायरी - दिल्लगी की

Barha Ke Pyas Meri Uss Ne Haath Chhod Diya,
Woh Kar Raha Tha Murawwat Bhi Dillagi Ki Tarah.

बढ़ा के प्यास मेरी उस ने हाथ छोड़ दिया,
वो कर रहा था मुरव्वत भी दिल्लगी की तरह।

Bewafa Shayari - धड़कनें भी

Tum Bewafa Nahi Yeh Toh Dadhkane Bhi Kehti Hain,
Apni Majboorion Ka Ek Paigaam Toh Bhej Dete.

तुम बेवफा नहीं ये तो धड़कनें भी कहती हैं,
अपनी मज़बूरिओं का एक पैगाम तो भेज देते।

Bewafa Shayari - भूल ना जाएं

Kaam Aa Saki Na Apni Wafayein To Kya Karein,
Uss Bewafa Ko Bhool Na Jayein To Kya Karein.

काम आ सकीं ना अपनी वफ़ाएं तो क्या करें,
उस बेवफा को भूल ना जाएं तो क्या करें।

Bewafa Shayari - बेवफाई हम करेंगे

Suno Ek Baar Mohabbat Karni Hai Tumse,
Lekin Iss Baar Bewafaai Hum Karenge.

सुनो एक बार और मोहब्बत करनी है तुमसे,
लेकिन इस बार बेवफाई हम करेंगे।

Bewafa Shayari - वफ़ा की तलाश

Insaan Ke Kandho Par Insaan Ja Raha Tha,
Kafan Mein Lipata Hua Armaan Ja Raha Tha,
Jise Bhi Mili Bewafai Mohabbat Mein,
Wafa Ki Talash Mein Shamshaan Ja Raha Tha.

इंसान के कंधों पर इंसान जा रहा था,
कफ़न में लिपटा अरमान जा रहा था,
जिसे भी मिली बेवफ़ाई मोहब्बत में,
वफ़ा की तलाश में श्मशान जा रहा था।

Bewafa Shayari - सनम अनजान

Wafa Ke Naam Se Mere Sanam Anjaan The,
Kisi Ki Bewafai Se Shayad Pareshan The,
Humne Wafa Deni Chahi Toh Pata Chala,
Hum Khud Bewafa Ke Naam Se Badnaam The.

वफ़ा के नाम से मेरे सनम अनजान थे,
किसी की बेवफाई से शायद परेशान थे,
हमने वफ़ा देनी चाही तो पता चला…
हम खुद बेवफा के नाम से बदनाम थे।

Bewafa Shayari - कैसी अजीब

Kaisi Ajeeb Tujhse Yeh Judai Thi,
Ki Tujhe Alvida Bhi Na Keh Saka,
Teri Saadgi Mein Itna Fareb Tha,
Ki Tujhe Bewafa Bhi Na Keh Saka.

कैसी अजीब तुझसे यह जुदाई थी,
कि तुझे अलविदा भी ना कह सका,
तेरी सादगी में इतना फरेब था,
कि तुझे बेवफा भी ना कह सका।

Bewafa Shayari - मुस्कुराने लगा है

Bewafai Ka Mausam Bhi
Ab Yahan Aane Laga Hai,
Wo Fir Se Kisi Aur Ko
Dekhkar Muskurane Laga Hai.

बेवफायी का मौसम भी
अब यहाँ आने लगा है,
वो फिर से किसी और को
देख कर मुस्कुराने लगा है।

Bewafa Shayari - ऐतबार न हुआ

Achha Hota Jo Uss Se Pyaar Na Hua Hota,
Chain Se Rehte Hum Jo Deedar Na Hua Hota,
Hum Pahunch Chuke Hote Apni Manzil Par,
Agar Uss Bewafa Par Aitbar Na Hua Hota.

अच्छा होता जो उस से प्यार न हुआ होता,
चैन से रहते हम जो दीदार न हुआ होता,
हम पहुँच चुके होते अपनी मंज़िल पर,
अगर उस बेवफा पर ऐतबार न हुआ होता।

Bewfa Shayari - बेवफाई उसकी

Bewafai Uski Dil Se Mita Ke Aaya Hun,
Khat Uske Paani Mein Baha Ke Aaya Hun,
Koi Parh Na Le Uss Bewafa Ki Yaadon Ko,
Isliye Paani Mein Aag Laga Ke Aaya Hun.

बेवफाई उसकी दिल से मिटा के आया हूँ,
ख़त उसके पानी में बहा के आया हूँ,
कोई पढ़ न ले उस बेवफा की यादों को,
इसलिए पानी में आग लगा कर आया हूँ।

Bewafa Shayari - तेरी बेवफाई

Raat Ki Gehrayi Aankhon Mein Utar Aayi,
Kuchh Khwaab The Aur Kuchh Meri Tanhai,
Yeh Jo Palko Se Bah Rahe Hain Halke Halke,
Kuchh Toh Majboori Thi Kuchh Teri Bewafai.

रात की गहराई आँखों में उतर आई,
कुछ ख्वाब थे और कुछ मेरी तन्हाई,
ये जो पलकों से बह रहे हैं हल्के हल्के,
कुछ तो मजबूरी थी कुछ तेरी बेवफाई।

Bewafa Shayari - वफ़ा की उम्मीद

Na Poochh Mere Sabr Ki Inteha Kahan Tak Hai,
Tu Sitam Kar Le Teri Hasrat Jahan Tak Hai,
Wafa Ki Ummid Jinhein Hogi Unhein Hogi,
Hamein Toh Dekhna Hai Tu Bewafa Kahan Tak Hai.

ना पूछ मेरे सब्र की इंतेहा कहाँ तक है,
तू सितम कर ले, तेरी हसरत जहाँ तक है
वफ़ा की उम्मीद, जिन्हें होगी उन्हें होगी,
हमें तो देखना है, तू बेवफ़ा कहाँ तक है।

Bewafa Shayari - बेवफ़ा हुए

Aag Dil Me Lagi Jab Wo Khafa Huye,
Mehsoos Hua Tab, Jab Wo Juda Huye,
Kar Ke Wafa Kuchh De Na Sake Wo,
Bahut Kuch De Gaye Jab Wo Bewafa Huye.

आग दिल में लगी जब वो खफ़ा हुए,
महसूस हुआ तब, जब वो जुदा हुए,
करके वफ़ा कुछ दे ना सके वो,
पर बहुत कुछ दे गए जब वो बेवफ़ा हुए।

Bewafa Shayari - मेरी तलाश का

Meri Talaash Ka Zurm Hai
Ya Meri Wafa Ka Qasoor,
Jo Dil Ke Qareeb Aya
Wohi Bewafa Nikala.

मेरी तलाश का है जुर्म
या मेरी वफा का क़सूर,
जो दिल के करीब आया
वही बेवफा निकला।

Bewafa Shayari - एक शख्स

Pahle Ishq Fir Dhokha
Fir Bewafai,
Badi Tarkeeb Se
Ek Shakhs Ne Tabaah Kiya.

पहले इश्क फिर धोखा
फिर बेवफ़ाई,
बड़ी तरकीब से
एक शख्स ने तबाह किया।

Bewafa Shayari - वफा की तलाश

Wafa Ki Talash Karte Rahe Hum,
Bewafai Mein Akele Marte Rahe Hum,
Nahi Mila Dil Se Chahne Wala,
Khud Hi Bewajah Darte Rahe Hum,
Lutaane Ko Hum Sab Kuchh Luta Dete,
Mohabbat Mein Unn Par MitTe Rahe Hum,
Khud Dukhi Hokar Khush Unko Rakha,
Tanhaion Mein Saansein Bharte Rahe Hum,
Woh Bewafai Hum Se Karte Hi Rahe,
Dil Se Unn Par Marte Rahe Hum.

वफा की तलाश करते रहे हम
बेवफाई में अकेले मरते रहे हम,
नहीं मिला दिल से चाहने वाला
खुद से ही बेबजह डरते रहे हम,
लुटाने को हम सब कुछ लुटा देते
मोहब्बत में उन पर मिटते रहे हम,
खुद दुखी हो कर खुश उन को रखा
तन्हाईयों में साँसें भरते रहे हम,
वो बेवफाई हम से करते ही रहे
दिल से उन पर मरते रहे हम।

Bewafa Shayari - वफा फरेब थी

Meri Wafa Fareb Hai Meri Wafa Pe Khaak Daal,
Tujhsa Hi Koi BaWafa Tujhko Mile Khuda Kare.

मेरी वफा फरेब थी मेरी वफा पे खाक डाल ।
तुझसा ही कोई बावफा तुझको मिले खुदा करे।

Bewafa Shayari - मुड़ कर

Ho Sake Toh Mud Kar Dekh Lena Jaate Jaate,
Tere Aane Ke Bharam Me Zindgi Gujaar Lenge.

हो सके तो मुड़ कर देख लेना जाते जाते,
तेरे आने के भरम में ज़िन्दगी गुज़ार लेंगे।

Bewafa Shayari - खुली आँखों को

Band Kar Dena Khuli Aankhon Ko Meri Aa Ke Tum,
Aks Tera Dekh Kar Kah De Na Koi Bewafa.

बंद कर देना खुली आँखों को मेरी आ के तुम,
अक्स तेरा देख कर कह दे न कोई बेवफा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *