जिंदगी पल -पल ढलती है,
जैसे रेत मुठ्ठी से फिसलती है…!🌺
शिकवे कितने भी हो हर पल,
फ़िर भी हँसते रहना…!!🌿
क्योंकि ये जिंदगी जैसी भी है,
बस एक बार ही मिलती है…!!!🌺

पत्थर तब तक सलामत है
जब तक वो पर्वत से जुड़ा है.
पत्ता 🍂तब तक सलामत है
जब तक वो 🌴पेड़ से जुड़ा है.
इंसान 👳तब तक सलामत है
जब तक वो 👪परिवार से जुड़ा है.
क्योंकि, परिवार 👪से अलग होकर
आज़ादी तो मिल जाती है लेकिन
संस्कार 👏 चले जाते हैं.