Chand Shayari in Hindi | shayari on chand | 400+

Chand Shayari

Raat Bhar Aasmaan Mein Hum Chaand Dhoondte Rahe,
Chaand Chupke Se Mere Aangan Mein Utar Aaya.

रात भर आसमां में हम चाँद ढूढ़ते रहे,
चाँद चुपके से मेरे आँगन में उतर आया।

Chand Shayari

Muntazir Hoon Ke Sitaaron Ki Jara Aankh Lage,
Chaand Ko Chhat Pe Bula Lunga Ishaara Kar Ke.

मुन्तज़िर हूँ कि सितारों की जरा आँख लगे,
चाँद को छत पे बुला लूँगा इशारा करके।

Chand Shayari

Kyun Meri Tarah Raaton Ko Rahta Hai Pareshaan,
Ai Chaand Bata Kis Se Teri Aankh Ladi Hai.

क्यूँ मेरी तरह रातों को रहता है परेशाँ,
ऐ चाँद बता किस से तेरी आँख लड़ी है।

Chand Shayari

Dhudhta Hun Main Jab Apni Hi Khamoshi Ko,
Mujhe Kuchh Kaam Nahi Duniya Ki Baaton Se,
Aasman De Na Saka Chaand Apne Daaman Ka,
Maangti Reh Gayi Dharti Kayi Raaton Se.

ढूँढता हूँ मैं जब अपनी ही खामोशी को,
मुझे कुछ काम नहीं दुनिया की बातों से,
आसमाँ दे न सका चाँद अपने दामन का,
माँगती रह गई धरती कई रातों से।

Chand Shayari

Aye Chaand Mujhe Bata Tu Mera Kya Lagta Hai,
Kyu Mere Saath Sari Raat Jaga Karta Hai,
Main Toh Ban Baitha Hu Diwana Unke Pyaar Mein,
Kya Tu Bhi Kisi Se Bepanah Mohabbat Karta Hai.

ऐ चाँद मुझे बता तू मेरा क्या लगता है,
क्यूँ मेरे साथ सारी रात जगा करता है,
मैं तो बन बैठा हूँ दीवाना उनके प्यार में,
क्या तू भी किसी से बेपनाह मोहब्बत करता है।

Chand Shayari

Patthar Ki Duniya Jazbaat Nahi Samjhati,
Dil Mein Kya Hai Wo Baat Nahi Samajhati,
Tanha Toh Chaand Bhi Sitaaron Ke Bheech Mein Hai,
Par Chaand Ka Dard Wo Raat Nahi Samjhati.

पत्थर की दुनिया जज़्बात नहीं समझती,
दिल में क्या है वो बात नहीं समझती,
तनहा तो चाँद भी सितारों के बीच में है,
पर चाँद का दर्द वो रात नहीं समझती।

Chand Shayari

Ik Adaa Aapki Dil Churane Ki,
Ik Adaa Aapki Dil Mein Bas Jaane Ki,
Chehra Aapka Chand Sa Aur Ek,
Hasrat Humari Uss Chand Ko Paane Ki.

इक अदा आपकी दिल चुराने की,
इक अदा आपकी दिल में बस जाने की,
चेहरा आपका चाँद सा और एक
हसरत हमारी उस चाँद को पाने की।

Chand Shayari

Tu Apni Nigahon Se Na Dekh Khud Ko
Chamakta Heera Bhi Tujhe Patthar Lagega,
Sab Kehte Honge Chand Ka Tukda Hai Tu,
Meri Nazar Se Chand Tera Tukda Lagega.

तू अपनी निगाहों से न देख खुद को,
चमकता हीरा भी तुझे पत्थर लगेगा,
सब कहते होंगे चाँद का टुकड़ा है तू,
मेरी नजर से चाँद तेरा टुकड़ा लगेगा।

Chand Shayari

Kitna Hasin Chand Sa Chehra Hai,
Uspe Shabab Ka Rang Gehra Hai,
Khuda Ko Yakeen Na Tha Wafa Pe,
Tabhi Chand Pe Taaro Ka Pehra Hai.

कितना हसीन चाँद सा चेहरा है,
उसपे शबाब का रंग गहरा है,
खुदा को यकीन न था वफ़ा पे,
तभी चाँद पे तारों का पहरा है।

Shayari on Chand

Tujhko Dekha Toh Fir Usko Na Dekha Maine,
Chaand Kahta Rah Gaya Main Chaand Hoon, Main Chaand Hoon.

तुझको देखा तो फिर उसको ना देखा मैं,
चाँद कहता रह गया मैं चाँद हूँ मैं चाँद हूँ।

Shayari on Chand

Aaj Tootega Guroor Chaand Ka Tum Dekhna Yaaro,
Aaj Maine Unhein Chhat Pe Bula Rakha Hai.

आज टूटेगा गुरूर चाँद का तुम देखना यारो,
आज मैंने उन्हें छत पर बुला रखा है।

Shayari on Chand

चाँद, चमन, घटा, बारिश इनकी ज़रूरत क्या है
तुम ही बताओ मुझे कि तुमसे खूबसूरत क्या है…!!

Shayari on Chand

खुबसूरत ग़ज़ल जैसा है,
तेरा चाँद सा चेहरा!
निगाहें शेर पढ़ती हैं,
तो लब इरशाद करतें है!!

Shayari on Chand

झांकता रहूंगा तेरी ही गली में,
तलाश जब-जब मुझे चाँद की होगी!

Shayari on Chand

जुगनुओं तुम्हें नया चाँद उगाना होगा,
इससे पहले कि #अँधेरे की #हुकुमत हो जाए।

Shayari on Chand

दोस्ती ज़िन्दगी में रौशनी कर देती है
कभी झूम के बरसती हैं बंज़र दिल पे,
कभी अमावस को चांदनी कर देती हैं।

Shayari on Chand

जिसे मैं चाँद कहता था,
उसी लड़की ने तारे दिखा दिए!

Shayari on Chand

खुद को इतना भी मत बचाया कर,
बारिश हो तो भीग जाया कर।
चाँद लाकर कोई नहीं देगा,
अपने चेहरे से जगमगाया कर।

Shayari on Chand

कल रात चांद हुबाहू तुमसा था.. दोस्त,
वही हुस्न.. वही गुरुर..
ओर हाँ. ..
वही कम्बखत मुझ से दुरी!

Shayari on Chand

पुरे की ख्वाहिश में ये इन्सान बहुत कुछ खोता है,
भूल जाता है कि आधा चाँद भी खुबसूरत होता है !!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *