Dard Bhari Shayari & Status | Dard bhari sad Shayari | 250+

Dard Bhari Shayari

Humdardiyan Bhi Mujhe Katne Lagti Hain Ab,
Yoon Mujhse Mera Mijaz Na Puchha Kare Koi.

हमदर्दियाँ भी मुझे काटने लगती हैं अब,
यूँ मुझसे मेरा मिजाज़ ना पूछा करे कोई।

Dard Bhari Shayari

Bheegi Mitti Ki Mehak Ehsaas Barha Deti Hai,
Dard Barsaat Ki Boondo Mein Basaa Karta Hai.

भीगी मिट्टी की महक एहसास बढ़ा देती है,
दर्द बरसात की बूँदों में बसा करता है।

Dard Bhari Shayari

Mere Toh Dard Bhi Auron Ke Kaam Aate Hain,
Mein Ro Padoo Toh Kayi Log Muskurate Hain.

मेरे तो दर्द भी औरों के काम आते हैं,
मैं रो पडूँ तो कई लोग मुस्कराते है।

Dard Bhari Shayari

Dard Ko Muskura Kar Sahna Kya Seekh Liya,
Sab Ne Soch Liya Mujhe Takleef Nahi Hoti.

दर्द को मुस्कराकर सहना क्या सीख लिया,
सब ने सोच लिया मुझे तकलीफ़ नहीं होती।

Dard Bhari Shayari

Maan Leta Hoon Tere Vaade Ko,
Bhool Jata Hoon Main Ke Tu Hai Wahi.

मान लेता हूँ तेरे वादे को,
भूल जाता हूँ मैं कि तू है वही।

Dard Bhari Shayari

Haal Puchha Na Khairiyat Puchhi,
Aaj Bhi Usne Haisiyat Puchhi.

हाल पूछा न खैरियत पूछी,
आज भी उसने हैसियत पूछी।

Dard Bhari Shayari

Diljalo Se Dillagi Achhi Nahi,
Rone Walon Se Hansi Achhi Nahi.

दिलजलों से दिल्लगी अच्छी नहीं,
रोने वालों से हँसी अच्छी नहीं।

Dard Bhari Shayari

Naseehat Achchi Deti Hai Duniya,
Agar Dard Kisi Ghair Ka Ho.

नसीहत अच्छी देती है दुनिया,
अगर दर्द किसी ग़ैर का हो।

Dard Bhari Shayari

Agar Mohabbat Ki Hadd Nahin Koi,
Toh Dard Ka Hisaab Kyun Rakhoon.

अगर मोहब्बत की हद नहीं कोई,
तो दर्द का हिसाब क्यूँ रखूं।

Dard Bhari Shayari

Dard Mein Bhi Yeh Lab Muskura Jaate Hain,
Beete Lamhe Humein Jab Bhi Yaad Aate Hain.

दर्द में भी ये लब मुस्कुरा जाते हैं,
बीते लम्हे हमें जब भी याद आते है।

Dard Bhari Shayari

Dard Mohabbat Ka Ai Dost Bahut Khoob Hoga,
Na Chubhega.. Na Dikhega.. Bas Mahsoos Hoga.

दर्द मोहब्बत का ऐ दोस्त बहुत खूब होगा,
न चुभेगा.. न दिखेगा.. बस महसूस होगा।

Dard Bhari Shayari

Parinde Laut Ke Jab Ghar Ko Aane Lagte Hain,
Humein Bhi Yaad Dar-o-Baam Aane Lagte Hain,
Jo Sunte Hain Ke Tere Dil Mein Koi Doosra Hai,
Hum Chupchap Apna Dard Dabaane Lagte Hain.

परिंदे लौट के जब घर को जाने लगते हैं,
हमें भी याद दर-ओ-बाम आने लगते हैं,
जो सुनते हैं कि तेरे दिल में कोई दूसरा है,
हम चुपचाप अपना दर्द दबाने लगते हैं।

Dard Bhari Shayari

Rone Ki Saza Na Ye Rulaane Ki Saza Hai,
Ye Dard Mohabbat Ko Nibhane Ki Saza Hai,
Hansti Huyi Aankhon Mein Aa Jate Hain Aansoo,
Ye Uss Shakhs Se Dil Lagane Ki Saza Hai.

रोने की सजा है न ये रुलाने की सजा है,
ये दर्द मोहब्बत को निभाने की सजा है,
हँसती हुई आँखों में आ जाते हैं आँसू,
ये उस शख्स से दिल लगाने की सजा है।

Dard Bhari Shayari

Diya Diye Se Jala Loon Toh Chain Aaye Mujhe,
Tumhein Gale Se Laga Loon Toh Chain Aaye Mujhe,
Mohabbton Ke Saheefay Hain Ya Azaab Koi,
Tere Khaton Ko Jala Loon Toh Chain Aaye Mujhe.

दिया दिए से जला लूं तो सुकून आये मुझे,
तुम्हें गले से लगा लूं तो चैन आये मुझे,
मोहब्बतों के सहीफ़े हैं या अज़ाब कोई,
तेरे खतों को जला लूं तो चैन आये मुझे।

Dard Bhari Shayari

Gulshan Ki Baharon Pe Sar-e-Shaam Likha Hai,
Phir Uss Ne Kitabon Pe Mera Naam Likha Hai,
Yeh Dard Isee Tarah Meri Duniya Mein Rahega,
Kuchh Soch Ke Uss Ne Mera Anjaam Likha Hai.

गुलशन की बहारों पे सर-ए-शाम लिखा है,
फिर उस ने किताबों पे मेरा नाम लिखा है,
ये दर्द इसी तरह मेरी दुनिया में रहेगा,
कुछ सोच के उस ने मेरा अंजाम लिखा है।

Dard Bhari Shayari

Badle Toh Nai Hain Woh Dil-o-Jaan Ke Qareene,
Aankhon Ki Jalan Dil Ki Chubhan Ab Bhi Wahi Hai.

बदले तो नहीं हैं वो दिल-ओ-जान के क़रीने,
आँखों की जलन दिल की चुभन अब भी वही है।

Dard Bhari Shayari

Aayina Aaj Fir Rishwat Lete Pakda Gaya,
Dil Mein Tha Dard Chehra Hanste Huye Pakda Gaya.

आईना आज फिर रिश्वत लेता पकड़ा गया,
दिल में था दर्द चेहरा हँसता हुआ पकड़ा गया।

Dard Bhari Shayari

Ab Iss Se Jyada Aur Kya Narmi Bartoon,
Dil Ke Zakhmo Ko Chhua Hai Tere Gaalon Ki Tarah.

अब इस से ज्यादा और क्या नरमी बरतूं,
दिल के ज़ख्मों को छुया है तेरे गालों की तरह।

Dard Bhari Shayari

Hawa Se Lipti Hui Siskiyon Se Lagta Hai,
Meri Kahani Kisi Aur Ne Bhi Dhohrayi Hai.

हवा से लिपटी हुयी सिसकियों से लगता है,
मेरी कहानी किसी और ने भी दोहराई है।

Dard Bhari Shayari

Mujhko Dhoondh Leta Hai Har Roj Naye Bahane Se,
Dard Ho Gaya Hai Waqif Mere Har Thhikane Se.

मुझको ढूँढ़ लेता है हर रोज़ नए बहाने से,
दर्द हो गया है वाकिफ मेरे हर ठिकाने से।

Dard Bhari Shayari

Aankhon Mein Umad Aata Ha Baadal Ban Kar,
Dard Ehsaas Ko Banjar Nahi Rahne Deta.

आँखों में उमड़ आता है बादल बन कर,
दर्द एहसास को बंजर नहीं रहने देता।

Dard Bhari Shayari

Khamoshyian Kar Deti Bayaan Toh Alag Baat Hai,
Kuchh Dard Hain Jo Lafzo Mein Utaare Nahi Jate.

खामोशियाँ कर देतीं बयान तो अलग बात है,
कुछ दर्द हैं जो लफ़्ज़ों में उतारे नहीं जाते।

Dard Bhari Shayari

Sheesha Toote Aur Bikhar Jaye Toh Behtar Hai,
Daraarein Na Jeene Deti Hain Na Marne Deti Hain.

शीशा टूटे और बिखर जाये वो बेहतर है,
दरारें ना जीने देती हैं ना मरने देती हैं।Roj Pilata Hu Ek Zeher Ka Pyala Use,

Dard Bhari Shayari

Dard Ka Mere Yakeen Aap Karein Ya Na Karein,
Intija Hai Ke Iss Raaz Ka Charcha Na Karein.

दर्द का मेरे यकीं आप करें या ना करें,
इल्तिजा है कि इस राज़ का चर्चा ना करें।

Dard Bhari Shayari

Jaane-Tanha Pe Gujar Jayein Hajaro Sadmein,
Aankh Mein Ashq Bhi Aayein Yeh Jaroori To Nahi.

जाने-तन्हा पे गुजर जायें हजारो सदमें,
आँख में अश्क भी आयें ये जरूरी तो नहीं।

Dard Bhari Shayari

Paas Jab Tak Woh Rahe Dard Thama Rahta Hai,
Phailta Jata Hai Phir Aankh Ke Kajal Ki Tarah.

पास जब तक वो रहे दर्द थमा रहता है,
फैलता जाता है फिर आँख के काजल की तरह।

Dard Bhari Shayari

Log Muntzir Hi Rahe Ke Humein Toota Hua Dekhein,
Aur Hum The Ke Dard Sahte-Sahte Patthar Ke Ho Gaye.

लोग मुन्तज़िर ही रहे कि हमें टूटा हुआ देखें,
और हम थे कि दर्द सहते-सहते पत्थर के हो गए।

Dard Bhari Shayari

Zakhm Bahut Hain Fir Bhi Mera Hausla To Dekh,
Tu Has Diya To Main Bhi Tere Saath Has Diya.

ज़ख्म बहुत हैं फिर भी मेरा हौसला तो देख,
तू हँस दिया तो मैं भी तेरे साथ हँस दिया।

Dard Bhari Shayari

Waqt Khushi Se Katne Ka Mashwara Dete Huye,
Ro Pada Woh Khud Hi Mujhe Haunsla Dete Huye.

वक़्त ख़ुशी से काटने का मशवरा देते हुये,
रो पड़ा वो ख़ुद ही मुझे हौंसला देते हुये ।

Dard Bhari Shayari

Tod Diye Maine Ghar Ke Aayine Sabhi,
Pyar Mein Haare Huye Log Mujhse Dekhe Nahi Jate.

तोड़ दिए मैंने घर के आईने सभी,
प्यार में हारे हुए लोग मुझसे देखे नहीं जाते।

Dard Bhari Shayari

Mere Aansuo Ke Daam Tum Chuka Na Payoge,
Mohabbat Na Le Sake Toh Dard Kya Khareedoge.

मेरे आँसुओं के दाम तुम चुका नहीं पाओगे,
मोहब्बत न ले सके तो दर्द क्या खरीदोगे।

Dard Bhari Shayari

Apna Koi Mil Jata Toh Hum Phoot Ke Ro Lete,
Yehan Sab Ghair Hain Toh Hans Ke Gujar Jayegi.

अपना कोई मिल जाता तो हम फूट के रो लेते,
यहाँ सब गैर हैं तो हँस के गुजर जायेगी।

Dard Bhari Shayari

Takleef Ye Nahin Ke Tumhein Azeez Koi Aur Hai,
Dard Tab Hua Jab NajarAndaz Koye Gaye.

तकलीफ ये नहीं कि तुम्हें अज़ीज़ कोई और है,
दर्द तब हुआ जब हम नजरंदाज किए गए।

Dard Bhari Shayari

Kiya Hai Bardasht Tera Har Dard Isee Aas Ke Saath,
Ke Khuda Noor Bhi Barsata Hai Aazmaishon Ke Baad.

किया है बर्दाश्त तेरा हर दर्द इसी आस के साथ,
कि खुदा नूर भी बरसाता है आज़माइशों के बाद।

Dard Bhari Shayari

Parda Girte Hi Khatm Ho Jaate Hain Tamaashe Saare,
Khoob Rote Hain Fir Auron Ko Hansaane Wale.

पर्दा गिरते ही खत्म हो जाते हैं तमाशे सारे,
खूब रोते हैं फिर औरों को हँसाने वाले।

Dard Bhari Shayari

Aaj Uss Ne Ek Dard Diya Toh Mujhe Yaad Aaya,
Humne Hi Duaaon Mein Uske Saare Dard Mange They.

आज उस ने एक दर्द दिया तो मुझे याद आया,
हमने ही दुआओं में उसके सारे दर्द माँगे थे।

Dard Bhari Shayari

Mujh Par Sitam Dhha Gaye Meri Hi Ghazal Ke Sher,
Parh-Parh Ke Kho Rahe Hain Woh Ghair Ke Khayal Mein.

मुझ पर सितम ढहा गए मेरी ही ग़ज़ल के शेर,
पढ़-पढ़ के खो रहे हैं वो गैर के ख्याल में।

Dard Bhari Shayari

Tujhse Pahle Bhi Kayi Zakhm The Seene Mein Magar,
Ab Ke Woh Dard Hai Ke Ragein TootTi Hain.

तुझसे पहले भी कई जख्म थे सीने में मगर,
अब के वह दर्द है दिल में कि रगें टूटती हैं।

Dard Bhari Shayari

Ab Toh Daaman-e-Dil Chhod Do Bekaar Ummeedo,
Bahut Dard Seh Liye Maine Bahut Din Jee Liya Maine.

अब तो दामन-ए-दिल छोड़ दो बेकार उमीदों,
बहुत दर्द सह लिए मैंने बहुत दिन जी लिया मैंने।

Dard Bhari Shayari

Tarteeb-e-Sitam Ka Bhi Saleeqa Tha Usey,
Pehle Pagal Kiya Aur Phir Mujhe Pathar Maare.

तरतीब-ए-सितम का भी सलीक़ा था उसे,
पहले पागल कर दिया फिर मुझे पत्थर मारे।

Dard Bhari Shayari

Raha Na Dil Mein Woh Bedard Aur Dard Raha,
Muqeem Kaun Hua Hai, Maqaam Kiss Ka Tha.

रहा न दिल में वो बेदर्द और दर्द रहा,
मुक़ीम कौन हुआ है मुक़ाम किसका था।

Dard Bhari Shayari

Durust Kar Hi Liya Maine Najariya Apna,
Ke Dard Na Ho Toh Mohabbat Majaak Lagti Hai.

दुरुस्त कर ही लिया मैंने नजरिया अपना,
कि दर्द न हो तो मोहब्बत मजाक लगती है।

Dard Bhari Shayari

Dard Kab Mohtaz Hota Hai Lafzon Ka,
Do Boond Aansoo Chahiye Bayaan Karne Ke Liye.
दर्द कब मोहताज़ होता है लफ्जों का,
दो बूंद आँसू चाहिए बयाँ करने के लिये।

Dard Bhari Shayari

Visaal, Hijr, Wafa, Fikr, Dard, Majboori,
Jara Si Umr Mein Kitne Zamane Dekhe Hain.

विसाल, हिज्र, वफ़ा, फ़िक्र, दर्द, मजबूरी,
जरा सी उम्र में कितने ज़माने देखे हैं।

Dard Bhari Shayari

Sab So Gaye Apna Dard Apno Ko Suna Ke,
Koi Hota Mera To Mujhe Bhi Neend Aa Jaati.

सब सो गए अपना दर्द अपनों को सुना के,
कोई होता मेरा तो मुझे भी नींद आ जाती।

Dard Bhari Shayari

Aur Bhi Kar Deta Hai Mere Dard Mein Izafa,
Tere Rahte Huye Ghairon Ka Dilaasa Dena.

और भी कर देता है मेरे दर्द में इज़ाफ़ा,
तेरे रहते हुए गैरों का दिलासा देना।

Dard Bhari Shayari

Ek Fasaana Sun Gaye Ek Keh Gaye,
Main Jo Roya Toh Muskura Ke Reh Gaye.

एक फ़साना सुन गए एक कह गए,
मैं जो रोया तो मुस्कुराकर रह गए।

Dard Bhari Shayari

Meri Har Aah Ko Waah Mili Hai Yahan,
Kaun Kahta Hai Dard Bikta Nahi Hai.

मेरी हर आह को वाह मिली है यहाँ.
कौन कहता है दर्द बिकता नहीं है।

Dard Bhari Shayari

Faisla Yeh Mere Yaar Bahut Mushkil Hai,
Tere Zulm Sahein Ya Ke Fanaa Ho Jayein.

फैसला ये मेरे यार बहुत मुश्किल है,
तेरे ज़ुल्म सहें या कि फ़ना हो जाएँ।

Dard Bhari Shayari

Dil Ke Zakhmo Ko Hawa Lagti Hai,
Saans Lena Bhi Yahan Aasaan Nahi Hai.

दिल के ज़ख्मों को हवा लगती है,
साँस लेना भी यहाँ आसान नहीं है।

Dard Bhari Shayari

Jhuthhi Hansi Se Zakhm Aur Barhta Gaya,
Iss Se Behtar Tha KhulKar Ro Liye Hote.

झूठी हँसी से जख्म और बढ़ता गया,
इससे बेहतर था खुलकर रो लिए होते।

Dard Bhari Shayari

Dard Ke Daaman Mein Chahat Ke Kamal Khilte Hain,
Ashq Ki Lakeer Par Yaadon Ke Kadam Chalte Hain,
Rengte Khyalon Mein Najar Aati Hain Manzilein,
Jab Bhi Nigaahon Mein Khwabon Ki Diye Jalte Hain.

दर्द के दामन में चाहत के कमल खिलते हैं,
अश्क की लकीर पर यादों के कदम चलते हैं,
रेंगते ख्यालों में नजर आती हैं मंजिलें,
जब भी निगाहों में ख्वाबों के दिए जलते हैं।

Dard Bhari Shayari

Kaise Bayaan Karein Aalam Dil Ki Bebasi Ka,
Woh Kya Samjhe Dard Aankhon Ki Iss Nami Ka,
Unke Chhahne Wale Itne Ho Gaye Hai Ab Ke,
Unhein Jab Ehsaas Hi Nahi Humari Kami Ka.

कैसे बयान करें आलम दिल की बेबसी का,
वो क्या समझे दर्द आँखों की इस नमी का,
उनके चाहने वाले इतने हो गए हैं अब कि,
उन्हे जब एहसास ही नहीं हमारी कमी का।

Dard Bhari Shayari

Mujhko Toh Dard-e-Dil Ka Mazaa Yaad Aa Gaya,
Tum Kyun Huye Udaas Tumhein Kya Yaad Aa Gaya?
Kahne Ko Zindgi Thi Bahut Mukhtsar Magar,
Kuchh Yoon Huyi Basar Ki Khuda Yaad Aa Gaya.

मुझको तो दर्द-ए-दिल का मज़ा याद आ गया,
तुम क्यों हुए उदास तुम्हें क्या याद आ गया?
कहने को जिंदगी थी बहुत मुख्तसर मगर,
कुछ यूँ बसर हुई कि खुदा याद आ गया।

Dard Bhari Shayari

Dard Sehne Ki Itni Aadat Si Ho Gayi Hai,
Ke Ab Dard Na Mile Toh Bahut Dard Hota Hai.

दर्द सहने की इतनी आदत सी हो गई है,
कि अब दर्द ना मिले तो बहुत दर्द होता है।

Dard Bhari Shayari

Aadat Badal Si Gayi Hai Waqt Kaatne Ki,
Himmat Hi Nahi Hoti Apna Dard Baantne Ki.

आदत बदल सी गई है वक़्त काटने की,
हिम्मत ही नहीं होती अपना दर्द बांटने की।

Dard Bhari Shayari

Anjaan Agar Ho Toh Gujar Kyun Nahin Jaate,
Pahchan Rahe Ho Toh Thhehar Kyun Nahi Jaate.

अनजान अगर हो तो गुजर क्यूँ नहीं जाते,
पहचान रहे हो तो ठहर क्यूँ नहीं जाते।

Dard Bhari Shayari

Ek Do Zakhm Nahin Jism Hai Saara Chhalni,
Dard Bechara Pareshaan Hai Kahan Se Nikle.

एक दो ज़ख्म नहीं जिस्म है सारा छलनी,
दर्द बेचारा परेशान है कहाँ से निकले।

Dard Bhari Shayari

Kis Dard Ko Likhte Ho Itna Doob Kar,
Ek Naya Dard De Diya Hai Usne Yeh Puchh Kar.

किस दर्द को लिखते हो इतना डूब कर,
एक नया दर्द दे दिया है उसने ये पूछकर।

Dard Bhari Shayari

Gham Saleeke Mein The Jab Tak Hum Khamosh The,
Jara Jubaan Kya Khuli Dard Be-Adab Ho Gaye.

ग़म सलीके में थे जब तक हम खामोश थे,
जरा जुबान क्या खुली दर्द बे-अदब हो गए।

Dard Bhari Shayari

Woh Lafz Kahan Se Laauon Jo Tujhko Mom Kar Dein,
Mera Wajood Pighal Raha Hai Teri Berukhi Se.

वो लफ्ज कहाँ से लाऊं जो तुझको मोम कर दें,
मेरा वजूद पिघल रहा है तेरी बेरूखी से।

Dard Bhari Shayari

Jabt Kehta Hai Ke Khamoshi Se Basar Ho Jaye,
Dard Ki Zid Hai Ke Duniya Ko Khabar Ho Jaye.

जब्त कहता है कि खामोशी से बसर हो जाये,
दर्द की जिद है कि दुनिया को खबर हो जाये।

Dard Bhari Shayari

Mujhse Ai Aayine Meri Bekarariyan Na Poochh,
Toot Jayega Tu Bhi Meri Khamoshiyan Sun Ke.

मुझसे ऐ आईने मेरी बेकरारियाँ न पूछ,
टूट जाएगा तू भी मेरी खामोशियाँ सुन के।

Dard Bhari Shayari

Ab Dard Uthha Hai Toh Ghazal Bhi Hai Jaroori,
Pehle Bhi Hua Karta Tha Iss Baar Bahut Hai.

अब दर्द उठा है तो गज़ल भी है जरूरी,
पहले भी हुआ करता था इस बार बहुत है।

Dard Bhari Shayari

Humein Dekh Kar Jab Usne Munh Mod Liya,
Ek Tasalli Ho Gayi Chalo Pehchante Toh Hain.

हमें देख कर जब उसने मुँह मोड़ लिया,
एक तसल्ली हो गयी चलो पहचानते तो हैं।

Dard Bhari Shayari

Khud Ko Auron Ki Tabajjo Ka Tamasha Na Karo,
Aayina Dekh Lo Ahbaab Se Puchha Na Karo,
Sher Achhe Bhi Kaho Sach Bhi Kaho Kam Bhi Kaho,
Dard Ki Daulat-e-Nayab Ko Ruswa Na Karo.

खुद को औरों की तवज्जो का तमाशा न करो,
आइना देख लो अहबाब से पूछा न करो,
शेर अच्छे भी कहो सच भी कहो कम भी कहो,
दर्द की दौलत-ए-नायाब को रुसवा न करो।

Dard Bhari Shayari

Chhoti Si Zindagi Mein Armaan Bahut The,
HumDard Koi Na Tha Insaan Bahut The,
Hum Apna Dard Batate Bhi Toh Kise Batate,
Mere Dost Mujhse Anjaan Bahut The.

छोटी सी ज़िन्दगी में अरमान बहुत थे,
हमदर्द कोई न था इंसान बहुत थे,
हम अपना दर्द बताते भी तो किसे बताते,
मेरे दोस्त मुझसे अनजान बहुत थे।

Dard Bhari Shayari

Woh Toh Apna Dard Ro-Ro Kar Sunate Rahe,
Humari Tanhayion Se Bhi Aankh Churate Rahe.
Humein Hi Mil Gaya Khitab-e-Bewafa Kyunki,
Ham Har Dard Muskura Kar Chhupate Rahe.

वो तो अपना दर्द रो-रो कर सुनाते रहे,
हमारी तन्हाइयों से भी आँख चुराते रहे,
हमें ही मिल गया खिताब-ए-बेवफा क्योंकि,
हम हर दर्द मुस्कुरा कर छुपाते रहे।

Dard Bhari Shayari

Jo Najar Se Gujar Jaya Karte Hain,
Woh Sitaare Aksar Toot Jaya Karte Hain,
Kuchh Log Dard Ko Jahir Nahin Hone Dete,
Bas ChupChap Bikhar Jaya Karte Hain.

जो नजर से गुजर जाया करते हैं,
वो सितारे अक्सर टूट जाया करते हैं,
कुछ लोग दर्द को जाहिर नहीं होने देते,
बस चुपचाप बिखर जाया करते हैं।

Dard Bhari Shayari

Kagaz Pe Humne Bhi Zindgi Likh Di,
Ashq Se Seench Kar Unki Khushi Likh Di,
Dard Jab Humne Ubara Lafzon Pe,
Logon Ne Kaha Waah Kya Ghazal Likh Di.

कागज़ पे हमने भी ज़िन्दगी लिख दी,
अश्क से सींच कर उनकी खुशी लिख दी,
दर्द जब हमने उबारा लफ्जों पे,
लोगों ने कहा वाह क्या गजल लिख दी।

Dard Bhari Shayari

Hanste Huye Zakhnon Ko Bhulane Lage Hain Hum,
Har Dard Ke Nishaan Mitaane Lage Hain Hum,
Ab Aur Koi Zulm Satayega Kya Bhala,
Zulmon Sitam Ko Ab Toh Satane Lage Hain Hum.

हँसते हुए ज़ख्मों को भुलाने लगे हैं हम,
हर दर्द के निशान मिटाने लगे हैं हम,
अब और कोई ज़ुल्म सताएगा क्या भला,
ज़ुल्मों सितम को अब तो सताने लगे हैं हम।

Dard Bhari Shayari

Kaisi Gujar Rahi Hai Sabhi Poochhte Toh Hain,
Kaise Gujaarta Hoon Koi Poochhta Nahi.

कैसी गुजर रही है सभी पूछते तो हैं,
कैसे गुजारता हूँ कोई पूछता नहीं।

Dard Bhari Shayari

Lafz-e-Tasalli Toh Bas Ek Takalluf Hai,
Jiska Dard Uska Dard Baaki Sab Afsaane.

लफ्ज़-ए-तसल्ली तो बस एक तकल्लुफ है,
जिसका दर्द उसका दर्द बाकी सब अफ़साने।

Dard Bhari Shayari

Tum Na Kar Sakoge Mere Dard Ka ilaaj,
Zakhm Ko Nasoor Huye Muddatein Gujar Gayi.

तुम न कर सकोगे मेरे दिल के दर्द का इलाज़,
ज़ख्म को नासूर हुए मुद्दतें गुजर गयीं।

Dard Bhari Shayari

Woh Meri Ghazal Parh Ke Pahlu Badal Ke Bole,
Koi Cheene Qalam Inse Yeh Jaan Le Lete Hain.

वो मेरी ग़ज़ल पढ़ कर पहलू बदल के बोले,
कोई छीने क़लम इनसे ये तो जान ले चले हैं।

Dard Bhari Shayari

Yeh Bhi Ek Zamana Dekh Liya Hai Humne,
Dard Jo Sunaya Apna Toh Taliyan Baj Uthhi.

यह भी एक ज़माना देख लिया है हम ने,​
​दर्द जो सुनाया अपना तो तालियां बज उठीं​।

Dard Bhari Shayari

Joron Se Hans Pade Hum Badi Muddaton Ke Baad,
Fir Kaha Kisi Ne Ke Mera Aitbar Kijiye.

जोरों से हँस पड़े हम बड़ी मुद्दतों के बाद,
फिर कहा किसी ने कि मेरा ऐतबार कीजिये।

Dard Bhari Shayari

Zeher Deta Hai Koi Davaa Deta Hai,
Jo bhi Milta Hai Mera Dard Barha Deta Hai.

ज़हर देता है कोई कोई दवा देता है,
जो भी मिलता है मेरा दर्द बढ़ा देता है।

Dard Bhari Shayari

Dard Humne Sambhala Hai Humne Aansu Bahaye Hain,
Beshak Wajah Tum The Par Dil Toh Humara Tha.

दर्द हमने संभाला है हमने आँसू बहाए हैं,
बेशक वजह तुम थे पर दिल तो हमारा था।

Dard Bhari Shayari

Kamaal Ka Jigar Rakhte Hain Kuchh Log,
Dard Likhte Hain Aur Aah Tak Nahi Karte.


कमाल का जिगर रखते है कुछ लोग,
दर्द लिखते हैं और आह तक नहीं करते।

Dard Bhari Shayari

Apni Hi Mohabbat Se Mukarna Pada Mujhe,
Jab Dekha Use Rota Hua Kisi Aur Ke Liye.

अपनी ही मोहब्बत से मुकरना पड़ा मुझे,
जब देखा उसे रोता हुआ किसी और के लिए।

Dard Bhari Shayari

Na Tu Rahega Na Tere Sitam Rahenge Baaki,
Din Toh Aana Hai Kisi Roj Hisaabon Wala.

न तू रहेगा न तेरे सितम रहेंगे बाकी​,
दिन तो आना है किसी रोज़ हिसाबों वाला​।

Dard Bhari Shayari

Na Milne Ki Kasam Kha Ke Bhi Maine,
Har Raah Mein Bas Tujh Ko Hi Dhoondha Hai.

न मिलने की कसम खा के भी मैंने,
हर राह में बस तुझको ही ढूँढा है।

Dard Bhari Shayari

Log Wakif Hain Meri Aadaton Se,
Rutba Kam Hi Sahi LaJawab Rakhta Hun.

लोग वाकिफ हैं मेरी आदतों से,
रूतबा कम ही सही पर लाजवाब रखता हूँ।

Dard Bhari Shayari

Andaza Laga Lete Hain Sab Dard Ka Mere,
Hanste Huye Chehre Ka Nuksaan Yahi Hai.

अंदाजा लगा लेते हैं सब दर्द का मेरे,
हँसते हुए चेहरे का नुकसान यही है।

Dard Bhari Shayari

Dard Humara Phaila Pada Tha Kagaz Par,
Jo Samjha Ro Diya Na Samjha Muskura Diya.

दर्द हमारा फैला पड़ा था कागज पर,
जो समझा रो दिया जो न समझा मुस्कुरा दिया।

Dard Bhari Shayari

Ab Toh Haathon Se Lakeerein Bhi Miti Jati Hain,
Usey Khokar Mere Paas Raha Kuchh Bhi Nahi.

अब तो हाथों से लकीरें भी मिटी जाती हैं,
उसे खोकर मेरे पास रहा कुछ भी नहीं।

Dard Bhari Shayari

Manzilon Se Begana Aaj Bhi Safar Mera,
Hai Raat Besahar Meri Dard BeAsar Mera.

मंजिलों से बेगाना आज भी सफ़र मेरा,
है रात बेसहर मेरी दर्द बेअसर मेरा।

Dard Bhari Shayari

Har Shaam Keh Jati Hai Ek Kahani,
Har Subah Le Aati Hai Ek Nayi Kahani,
Raaste Toh Badalte Hain har Din Lekin,
Manzil Rah Jaati Hain Wohi Purani.

हर शाम कह जाती है एक कहानी,
हर सुबह ले आती है एक नई कहानी,
रास्ते तो बदलते हैं हर दिन लेकिन,
मंजिल रह जाती हैं वही पुरानी।

Dard Bhari Shayari

Khoon Ban Kar Munasib Nahi Dil Bahe,
Dil Nahi Manta Kaun Dil Se Kahe,
Teri Duniya Mein Aaye Bahut Din Rahe,
Sukh Ye Paya Ke Humne Bahut Dard Sahe.

खून बन कर मुनासिब नहीं दिल बहे,
दिल नहीं मानता कौन दिल से कहे,
तेरी दुनिया में आये बहुत दिन रहे,
सुख ये पाया कि हमने बहुत दर्द सहे।

Dard Bhari Shayari

Log Jalte Rahe Meri Muskaan Par,
Maine Dard Ki Apne Numaish Na Ki,
Jab Jahan Jo Mila Apna Liya,
Jo Na Mila Uski Khwahish Na Ki.

लोग जलते रहे मेरी मुस्कान पर,
मैंने दर्द की अपने नुमाईश न की
जब जहाँ जो मिला अपना लिया,
जो न मिला उसकी ख्वाहिश न की।

Dard Bhari Shayari

Har Dard Ko Dafan Kar Gehrayi Mein Kahin,
Do Pal Ke Liye Sab Kuchh Bhulaya Jaaye,
Rone Ke Liye Ghar Mein Kone Bahut Se Hain,
Aaj Mehfil Mein Chalo Sabko Hansaya Jaaye.

हर दर्द को दफ़न कर गहराई में कहीं,
दो पल के लिए सब कुछ भुलाया जाए,
रोने के लिए घर में कोने बहुत से हैं,
आज महफ़िल में चलो सबको हंसाया जाए।

Dard Bhari Shayari

Yun Toh Har Ek Dil Mein Dard Naya Hota Hai,
Bas Bayaan Karne Ka Andaaz Juda Hota Hai,
Kuchh Log Aankhon Se Dard Bahaa Lete Hain,
Aur Kisi Ki Hansi Mein Bhi Dard Chhupa Hota Hai.

यूँ तो हर एक दिल में दर्द नया होता है,
बस बयान करने का अंदाज़ जुदा होता है,
कुछ लोग आँखों से दर्द को बहा लेते हैं
और किसी की हँसी में भी दर्द छुपा होता है।

Dard Bhari Shayari

Mere Khyalon Mein Wahi Sapno Mein Wahi,
Lekin Unki Yaadon Mein Hum The Hi Nahi,
Hum Jaagte Rahe Duniya Soti Rahi,
Ek Baarish Hi Thi Jo Humare Sath Roti Rahi.

मेरे ख्यालों में वही सपनो में वही,
लेकिन उनकी यादों में हम थे ही नहीं,
हम जागते रहे दुनिया सोती रही,
एक बारिश ही थी जो हमारे साथ रोती रही।

Dard Bhari Shayari

Woh Dard De Gaye Sitam Bhi De Gaye,
Zakhm Ke Saath Woh Marham Bhi De Gaye,
Do Lafzon Se Kar Gaye Apna Man Halka,
Humein Kabhi Na Rone Ki Kasam De Gaye.

वो दर्द दे गए सितम भी दे गए,
ज़ख़्म के साथ वो मरहम भी दे गए,
दो लफ़्ज़ों से कर गए अपना मन हल्का,
हमें कभी ना रोने की कसम दे गए।

Dard Bhari Shayari

Mere Iss Dard Ki Wajah Bhi Woh Hain,
Aur Mere Dard Ki Davaa Bhi Toh Woh Hain,
Woh Namak Zakhamo Pe Lagate Hain To Kya,
Mohabbat Karne Ki Wajah Bhi Toh Woh Hain.

मेरे इस दर्द की वजह भी वो हैं,
और मेरे दर्द की दवा भी तो वो हैं,
वो नमक ज़ख्मों पे लगाते हैं तो क्या,
मोहब्बत करने की वजह भी तो वो हैं।

Dard Bhari Shayari

Khushiyon Se Naaraj Hai Meri Zindgi,
Bas Pyaar Ki Mohtaaz Hai Meri Zindgi,
Hans Leta Hoon Logo Ko Dikhane Ke Liye,
Waise Toh Dard Ki Kitaab Hai Meri Zindgi.

खुशियों से नाराज़ है मेरी ज़िन्दगी,
बस प्यार की मोहताज़ है मेरी ज़िन्दगी,
हँस लेता हूँ लोगों को दिखाने के लिए,
वैसे तो दर्द की किताब है मेरी ज़िन्दगी।

Dard Bhari Shayari

Gujarta Waqt Humein Ehsaas Dila Deta Hai,
Jise Chahte Hain Hum Woh Hi Dil Dukha Deta Hai,
Waqt Marham Laga Deta Hai Jin Zakhmo Par,
Koi Apna Uss Dard Ko Fir Se Jaga Deta Hai.

गुजरता वक़्त हमें एहसास दिला देता है,
जिसे चाहते हैं हम वो ही दिल दुखा देता है,
वक़्त मरहम लगा देता है जिन ज़ख्मो पर,
कोई अपना उस दर्द को फिर से जगा देता है।

Dard Bhari Shayari

Ek Naya Dard Mere Dil Mein Jaga Kar Chala Gaya,
Kal Phir Woh Mere Shehar Mein Aakar Chala Gaya,
Jise Dundhte Rahe Hum Logon Ki Bheed Mein,
Mujh Se Woh Apne Aapko Chhupa Kar Chala Gaya.

एक नया दर्द मेरे दिल में जगा कर चला गया,
कल फिर वो मेरे शहर में आकर चला गया,
जिसे ढूंढते रहे हम लोगों की भीड़ में,
मुझसे वो अपने आप को छुपा कर चला गया।

Dard Bhari Shayari

Meri Fitrat Mein Nahi Apna Dard Bayaan Karna,
Agar Tere Wajood Ka Hissa Hun Toh Mehsoos Kar Mujhe.

मेरी फितरत में नहीं अपना दर्द बयां करना,
अगर तेरे वजूद का हिस्सा हूँ तो महसूस कर मुझे।

Dard Bhari Shayari

Bahut Juda Hai Auron Se Mere Dard Ki Kahani,
Zakhm Ka Nishaan Nahi Aur Dard Ki Intehaan Nahi.

बहुत जुदा है औरों से मेरे दर्द की कहानी,
जख्म का निशाँ नहीं और दर्द की इन्तेहाँ नहीं।

Dard Bhari Shayari

Aankhein Khuli Hain Jab Se Hoon Dard Mein Ai Dost,
Mujhko Jaga Ke Neend Se Tu Ne Achchha Nahi Kiya.

आँखें खुली हैं जबसे हूँ दर्द में ऐ दोस्त,
मुझको जगा के नींद से तूने अच्छा नहीं किया।

Dard Bhari Shayari

Shayari Mein Kahan SimatTa Hai Dard-e-Dil Dosto,
Bahla Rahe Hain Khud Ko Jara Kagazon Ke Saath.

शायरी में कहाँ सिमटता है दर्द-ए-दिल दोस्तो,
बहला रहे हैं खुद को जरा कागजों के साथ।

Dard Bhari Shayari

Tu Hai Sooraj Tujhe Maloom Kahan Raat Ka Dard,
Tu Kisi Roz Mere Ghar Mein Utar Shaam Ke Baad.

तू है सूरज तुझे मालूम कहाँ रात का दर्द,
तू किसी रोज मेरे घर में उतर शाम के बाद।

Dard Bhari Shayari

Aakhir Kyun Banaya Mujhe Aye Banane Wale,
Bahut Dard Dete Hai Yeh Zamaane Wale,
Maine Aag Ke Ujale Mein Kuchh Chehre Dekhe,
Mere Apne Hi The Mere Ghar Ko Jalane Wale.

आखिर क्यूँ बनाया मुझे ऐ बनाने वाले,
बहुत दर्द देते हैं ये ज़माने वाले,
मैंने आग के उजाले में कुछ चेहरे देखे,
मेरे अपने ही थे मेरा घर जलाने वाले।

Dard Bhari Shayari

Hum Jale To Sab Chirag Samajh Baithe,
Jab Mehke To Sab Gulaab Samajh Baithe,
Mere Lafzo Ka Dard Kisi Ne Nahi Dekha,
Shayari Parhi Toh Shayar Samajh Baithe.

हम जले तो सब चिराग समझ बैठे,
जब महके तो सब गुलाब समझ बैठे,
मेरे लफ्जों का दर्द किसी ने नहीं देखा,
शायरी पढ़ी तो शायर समझ बैठे।

Dard Bhari Shayari

Aarzoo Nahi Ke Gham Ka Tufan Tal Jaye,
Fikr Toh Ye Hai Tera Dil Na Badal Jaye,
Bhulana Ho Agar Mujhko Toh Ek Ehsaan Karna,
Dard Itna Dena Ki Meri Jaan Nikal Jaye.

आरजू नहीं के ग़म का तूफान टल जाये,
फ़िक्र तो ये है तेरा दिल न बदल जाये,
भुलाना हो अगर मुझको तो एक एहसान करना,
दर्द इतना देना कि मेरी जान निकल जाये।

Dard Bhari Shayari

Kitna Ajeeb Zindagi Ka Safar Nikla,
Saare Jahaan Ka Dard Apna Muqaddar Nikla,
Jiske Naam Apna Har Lamha Kar Diya,
Wahi Humari Chaahat Se BeKhabar Nikla.

कितना अजीब ज़िन्दगी का सफर निकला,
सारे जहाँ का दर्द अपना मुक़द्दर निकला,
जिसके नाम अपना हर लम्हा कर दिया,
वही हमारी चाहत से बेखबर निकला।

Dard Bhari Shayari

Woh Naraj Hain Humse Ke Hum Kuchh Likhte Nahi,
Kahan Se Layein Lafz Jab Humko Milte Nahi,
Dil Ki Jubaan Hoti Toh Bata Dete Shayad,
Woh Zakhm Kaise Dikhayein Jo Dikhte Hi Nahi.

वो नाराज़ हैं हमसे कि हम कुछ लिखते नहीं,
कहाँ से लाएं लफ्ज़ जब हमको मिलते नहीं,
दिल की ज़ुबान होती तो बता देते शायद,
वो ज़ख्म कैसे दिखाए जो दिखते ही नहीं।

Dard Bhari Shayari

Dil Mein Jo Dard Hai Woh Dard Kise Batayein,
Hanste Huye Yeh Zakhm Kise Dikhayein,
Kehti Hai Yeh Duniya Humein KhushNashib,
Magar Iss Naseeb Ki Dastaan Kise Sunayein.

दिल में है जो दर्द वो दर्द किसे बताएं,
हंसते हुए ये ज़ख्म किसे दिखाएँ,
कहती है ये दुनिया हमे खुश नसीब,
मगर इस नसीब की दास्ताँ किसे बताएं।

Dard Bhari Shayari

Uss Ko Main Dekhun Toh Iss Tarah Se Dekhun,
Sharm Aankhon Mein Rahe Aur Khataa Ho Jaye.

उस को मैं देखूं तो इस तरह से देखूं,
शर्म आंखों में रहे और खता हो जाए।

Dard Bhari Shayari

Iss Tarah Zurm Ke Ehsaas Ko Bedaar Karo,
Jism Aazad Rahe Aur Sazaa Ho Jaye

इस तरह जुर्म के अहसास को बेदार करो,
जिस्म आजाद रहे और सजा हो जाए।

Dard Bhari Shayari

Maujuja Kaash Dikha De Yeh Nigaahein Meri,
Lafz Khamosh Rahein Baat Adaa Ho Jaye.

मौजूजा काश दिखा दे ये निगाहें मेरी,
लफ्ज खामोश रहें बात अदा हो जाए।

Dard Bhari Shayari

Zindgi Ko Mile Koyi Hunar Aisa Bhi,
Sab Mein Maujood Bhi Rahe Aur Fanaah Ho Jaye.

जिंदगी को मिले कोई हुनर ऐसा भी,
सबमे मौजूद भी हो और फना हो जाए।

Dard Bhari Shayari

Iss Tarah Meri Taraf Mera Maseeha Dekhe,
Dard Dil Mein Hi Rahe Aur Davaa Ho Jaye.

इस तरह मेरी तरफ मेरा मसीहा देखे,
दर्द दिल में ही रहे और दवा हो जाए।

Dard Bhari Shayari

Waqt Ki Raftar Ruk Gayi Hoti,
Sharm Se Aankhein Jhuk Gayin Hoti,
Agar Dard Janti Shama Parwane Ka,
Toh Jalne Se Pahle Bujhh Gayi Hoti.

वक़्त की रफ़्तार रुक गई होती,
शर्म से आँखे झुक गई होती,
अगर दर्द जानती शमा परवाने का,
तो जलने से पहले बुझ गई होती।

Dard Bhari Shayari

Sochta Hoon Kya Usey Neend Aati Hogi,
Ya Wo Meri Tarah Ashq Bahaati Hogi,
Wo Mera Aks Mera Naam Bhulaane Wali,
Apni Tasvir Se Kya Aankh Milati Hogi.

सोचता हूँ क्या उसे नींद आती होगी,
या वो मेरी तरह अश्क बहाती होगी,
वो मेरा अक्स मेरा नाम भुलाने वाली,
अपनी तस्वीर से क्या आँख मिलाती होगी।

Dard Bhari Shayari

Mohabbat Ka Mere Safar Aakhiri Hai,
Yeh Kagaz Kalam Yeh Ghazal Aakhiri Hai,
Main Phir Na Milunga Kahi Dhoondh Lena,
Tere Dard Ka Ab Yeh Asar Aakhiri Hai.

मोहब्बत का मेरे सफर आख़िरी है,
ये कागज कलम ये गजल आख़िरी है,
मैं फिर ना मिलूँगा कहीं ढूंढ लेना,
तेरे दर्द का अब ये असर आख़िरी है।

Dard Bhari Shayari

Har Ek Haseen Chehre Mein Gumaan Uska Tha,
Basa Na Koi Dil Mein Ye Makaan Uska Tha,
Tamaam Dard Mit Gaye Mere Dil Se Lekin,
Jo Na Mit Saka Woh Ek Naam Uska Tha.

हर एक हसीन चेहरे में गुमान उसका था,
बसा न कोई दिल में ये मकान उसका था,
तमाम दर्द मिट गए मेरे दिल से लेकिन,
जो न मिट सका वो एक नाम उसका था।

Dard Bhari Shayari

Mujhe Dard-e-Ishq Ka Majaa Maloom Hai,
Dard-e-Dil Ki Intehaan Maloom Hai,
Zindagi Bhar Muskurane Dua Mat Dena,
Mujhe Pal Bhar Muskurane Ki Saza Maloom Hai.

मुझे दर्द-ए-इश्क़ का मज़ा मालूम है,
दर्द-ए-दिल की इन्तेहाँ मालूम है,
ज़िंदगी भर मुस्कुराने की दुआ मत देना,
मुझे पल भर मुस्कुराने की सज़ा मालूम है।

Dard Bhari Shayari

Woh Roye Toh Magar Mujhse Munh Modkar Roye,
Koi Majboori Hi Hogi Jo Dil Tod Kar Roye.
Mere Saamne Kar Diye Meri Tasvir Ke Tukde,
Mere Baad Woh Unhein Jod Jod Kar Roye.

वो रोए तो मगर मुझसे मुंह मोड़कर रोए,
कोई मजबूरी होगी तो दिल तोड़कर रोए,
मेरे सामने कर दिए मेरी तस्वीर के टुकड़े,
मेरे बाद वो उन्हें जोड़ जोड़ कर रोए।

Dard Bhari Shayari

Dard Se Haath Na Milate Toh Aur Kya Karte,
Gham Mein Aansu Na Bahate Toh Aur Kya Karte,
Usne Mangi Thi Humse Roshni Ki Duaa,
Hum Apna Dil Na Jalate To Aur Kya Karte.

दर्द से हाथ न मिलाते तो और क्या करते,
गम में आँसू न बहते तो और क्या करते,
उसने मांगी थी हमसे रौशनी की दुआ,
हम अपना दिल न जलाते तो और क्या करते।

Dard Bhari Shayari

Be-Jaan Toh Main Ab Bhi Nahi Faraz,
Magar Jise Jaan Kehte The Woh Chhod Gaya.

बे-जान तो मैं अब भी नहीं फ़राज़,
मगर जिसे जान कहते थे वो छोड़ गया।

Dard Bhari Shayari

Kaun Deta Hai Umr Bhar Ka Sahara Faraz,
Log Toh Janaze Mein Kandhe Badalte Rahte Hain.

कौन देता है उम्र भर का सहारा फ़राज़,
लोग तो जनाज़े में भी कंधे बदलते रहते।

Dard Bhari Shayari

Zikr Uss Ka Hi Sahi Bazm Main Baithe Ho Faraz,
Dard Kaisa Bhi Uthe Haath Na Dil Par Rakhna.

ज़िक्र उस का ही सही बज़्म में बैठे हो फ़राज़,
दर्द कैसा भी उठे हाथ न दिल पर रखना।

Dard Bhari Shayari

Tanhaiyon Ke Dard Se Khoob Waqif Tha Woh Faraz,
Phir Bhi Dunia Mein Mujhe Tanha Banaya Usne.

तन्हाइयों के दर्द से खूब वाकिफ था वो फ़राज़,
फिर भी दुनिया में मुझे तनहा बनाया उसने।

Dard Bhari Shayari

Kaun Kehta Hai Nafraton Mein Dard Hai Faraz,
Kuchh Mohabbatein Bhi Badi AziyatNaak Hoti Hain.

कौन कहता है मोहब्बतों में दर्द है फ़राज़,
कुछ मोहब्बतें भो बड़ी अज़ीयतनाक होती हैं।

Dard Bhari Shayari

Iss Dafa Toh Barishein Rukti Hi Nahin Faraz,
Humne Kya Aansu Piye Ke Saare Mausam Ro Pade.

इस दफा तो बारिशें रूकती ही नहीं फ़राज़,
हमने आँसू क्या पिए सारे मौसम रो पड़े।

Dard Bhari Shayari

Ek Nafrat Hi Nahi Duniya Mein Dard Ka Sabab Faraz,
Mohabbat Bhi Sakoon Walon Ko Badi Takleef Deti Hai.

एक नफरत ही नहीं दुनिया में दर्द का सबब फ़राज़,
मोहब्बत भी सुकून वालों को बड़ी तकलीफ देती है।

Dard Bhari Shayari

Aankhein Khuli Toh Jag Uthhi Hasratein Faraz,
Usko Bhi Kho Diya Jise Paya Tha Khwab Main.

आँखें खुली तो जाग उठी हसरतें फराज़,
उसको भी खो दिया जिसे पाया था ख्वाब में।

Dard Bhari Shayari

Kaun Tolega Heeron Mein Ab Hamare Aansoo Faraz?
Woh Jo Ek Dard Ka Taajir Tha Dukan Chhor Gaya.

कौन तोलेगा हीरों में अब तुम्हारे आंसू फ़राज़,
वो जो एक दर्द का ताजिर था दुकां छोड़ गया।

Dard Bhari Shayari

Tumhare Chaand Se Chehre Par Gham Achhe Nahi Lagte,
Humein Keh Do Chale Jaao Jo Hum Achhe Nahi Lagte,
Humein Woh Zakhm Do Jana Jo Saari Umr Na Bhar Payein,
Jo Jaldi Bhar Ke Mit Jayein Wo Zakhm Achhe Nahi Lagte.

तुम्हारे चाँद से चेहरे पे ग़म अच्छे नहीं लगते,
हमें कह दो चले जाओ जो हम अच्छे नहीं लगते,
हमें वो ज़ख्म दो जाना जो सारी उम्र ना भर पायें,
जो जल्दी भर के मिट जाएं वो ज़ख्म अच्छे नहीं लगते।

Dard Bhari Shayari

Koi Samjhta Nahi Mujhe Iska Gham Nahi Karta,
Par Tere NajarAndaz Karne Muskura Deta Hun,
Meri Hansi Mein Chhupe Dard Ko Mahsoos Karke Dekh,
Main Toh Hans Ke Yun Hi Khud Ko Saza Deta Hun.

कोई समझता नहीं मुझे इसका गम नहीं करता,
पर तेरे नजरंदाज करने पर मुस्कुरा देता हूँ,
मेरी हंसी में छुपे दर्द को महसूस कर के देख,
मैं तो हंस के यूँ ही खुद को सजा देता हूँ।

Dard Bhari Shayari

Saza Kaisi Mili Humko Tujhse Dil Lagane Ki,
Rona Hi Pada Jab Koshish Ki Muskurane Ki,
Kaun Banega Yaha Meri Dard Bhari Raton Ka Humraz,
Dard Hi Mila Hai Jo Tune Koshish Ki Aajmane Ki.

सजा कैसी मिली हमको तुझसे दिल लगाने की,
रोना ही पड़ा जब कोशिश की मुस्कुराने की,
कौन बनेगा यहाँ मेरी दर्द भरी रातों का हमराज,
दर्द ही मिला है जो तूने कोशिश की आजमाने की।

Dard Bhari Shayari

Mujhko Aisa Dard Mila Jiski Dava Nahi,
Phir Bhi Khush Hun Mujhe Uss Se Koyi Gila Nahi,
Aur Kitne Aansu Bahaun Main Uss Ke Liye,
Jisko Khuda Ne Mere Naseeb Main Likha Nahi.

मुझको ऐसा दर्द मिला जिसकी दवा नहीं,
फिर भी खुश हूँ मुझे उस से कोई गिला नहीं,
और कितने आंसू बहाऊँ मैं उस के लिए,
जिसको खुदा ने मेरे नसीब में लिखा नहीं।

Dard Bhari Shayari

Na Kar Tu Itni Koshishein,
Mere Dard Ko Samajhane Ki,
Pehle Ishq Kar,
Phir Zakhm Kha,
Fir Likh Dava Mere Dard Ki.

ना कर तू इतनी कोशिशे,
मेरे दर्द को समझने की,
पहले इश्क़ कर,
फिर ज़ख्म खा,
फिर लिख दवा मेरे दर्द की।

Dard Bhari Shayari

Bichad Ke Tum Se Zindagi Saza Lagti Hai,
Yeh Saans Bhi Jaise Mujh Se Khafa Lagti Hai,
Tadap Uthta Hun Main Dard Ke Maare,
Zakhmon Ko Jab Tere Shahar Ki Hawa Lagti Hai,
Agar Ummeed-e-Wafa Karun To Kis Se Karun,
Mujh Ko Toh Meri Zindagi Bhi Bewafa Lagti Hai.

बिछड़ के तुम से ज़िंदगी सज़ा लगती है,
यह साँस भी जैसे मुझ से ख़फ़ा लगती है,
तड़प उठता हूँ मैं दर्द के मारे,
ज़ख्मों को जब तेरे शहर की हवा लगती है,
अगर उम्मीद-ए-वफ़ा करूँ तो किस से करूँ,
मुझ को तो मेरी ज़िंदगी भी बेवफ़ा लगती है।

Dard Bhari Shayari

Zulm Itna Na Kar Ke Log Kahein Tujhe Dushman Mera,
Humne Zamane Ko Tujhe Apni Jaan Bata Rakha Hai.

ज़ुल्म इतना ना कर कि लोग कहें तुझे दुश्मन मेरा,
हमने ज़माने को तुझे अपनी जान बता रखा है।

Dard Bhari Shayari

Main Bhi bahut Ajeeb Hoon Itna Ajeeb Hoon Ke Bas,
Khud Ko Tabaah Kar Liya Aur Malal Bhi Nahi.

मैं भी बहूत अजीब हूँ इतना अजीब हूँ कि बस,
खुद को तबाह कर लिया और मलाल भी नहीं।

Dard Bhari Shayari

Awaaz Mein Thehraao Tha Ankhon Mein Nami Si Thi,
Aur Kah Raha Tha Maine Sab Kuchh Bhula Diya.

आवाज़ में ठहराव था आँखों में नमी सी थी,
और कह रहा था मैंने सब कुछ भुला दिया।

Dard Bhari Shayari

ilaaj-e-Dard-e-Dil Tumse Maseeha Ho Nahi Sakta,
Tum Achha Kar Nahi Sakte Main Achha Ho Nahi Sakta.

इलाजे-दर्दे-दिल तुमसे मसीहा हो नहीं सकता,
तुम अच्छा कर नहीं सकते मैं अच्छा हो नहीं सकता।

Dard Bhari Shayari

Humne Socha Tha Ke Batayenge Dil Ka Dard Tumko,
Par Tumne Itna Bhi Na Puchha Ke Khamosh Kyun Ho.

हमने सोचा था कि बताएंगे दिल का दर्द तुमको,
पर तुमने तो इतना भी न पूछा कि खामोश क्यों हो।

Dard Bhari Shayari

Mohabbat Khubsurat Hogi Kisi Aur Duniya Mein,
Idhar Toh Hum Par Jo Gujri Hai Hum Hi Jante Hain.

मोहब्बत ख़ूबसूरत होगी किसी और दुनिया में,
इधर तो हम पर जो गुज़री है हम ही जानते हैं।

Dard Bhari Shayari

Woh Jaan Gayi Thi Hame Dard Mein Muskurane Aadat Hai,
Deti Thi Naya Zakhm Woh Roj Meri Khushi Ke Liye.

वो जान गयी थी हमें दर्द में मुस्कराने की आदत है,
देती थी नया जख्म वो रोज मेरी ख़ुशी के लिए।

Dard Bhari Shayari

Ab Na Puchhna Ki Yeh Alfaz Kahan Se Lata Hun,
Kuchh Churata Hun Dard Dusron Ke Kuchh Apni Sunata Hun.

अब ये न पूछना कि ये अल्फ़ाज़ कहाँ से लाता हूँ,
कुछ चुराता हूँ दर्द दूसरों के कुछ अपनी सुनाता हूँ।

Dard Bhari Shayari

Na Lafzon Se Lahoo Bahta Hai Na Kitabein Bol Pati Hain,
Mere Dard Ke Do Hi Gawaah The Dono Hi Bejubaan Nikle.

न लफ़्ज़ों से लहू बहता है न किताबें बोल पाती हैं,
मेरे दर्द के दो ही गवाह थे दोनों ही बेजुबान निकले।

Dard Bhari Shayari

Jab Fursat Mile Chaand Se Mere Dard Ki Kahani Poochh Lena,
Sirf Ek Woh Hi Hai Mera Humraj Tere Jaane Ke Baad.

जब फुरसत मिले चाँद से मेरे दर्द की कहानी पूछ लेना,
सिर्फ एक वो ही है मेरा हमराज तेरे जाने के बाद।

Dard Bhari Shayari

Log Kehte Hain Har Dard Ki Ek Had Hoti Hai,
Shayad Unhonein Mera Hadon Se Gujarana Nahi Dekha.

लोग कहते है हर दर्द की एक हद होती है,
शायद उन्होंने मेरा हदों से गुजरना नहीं देखा।

Dard Bhari Shayari

Mujhe Kabool Hai Har Dard Har Takleef Teri Chahat Mein,
Sirf Itna Bata De, Kya Tujhe Bhi Meri Mohabbat Kabool Hai?

मुझे क़बूल है हर दर्द, हर तकलीफ़ तेरी चाहत में..
सिर्फ़ इतना बता दे, क्या तुझे मेरी मोहब्बत क़बूल है?

Dard Bhari Shayari

Na Jaane Uss Par Itna Yakeen Kyun Hai,
Uska Khayal Bhi Itna Haseen Kyun Hai,
Suna Hai Pyar Ka Dard Meetha Hota Hai,
Toh Aankh Se Nikla Aansu Namkeen Kyun Hai.

न जाने उस पर इतना यकीन क्यूँ है,
उसका ख्याल भी इतना हसीं क्यूँ है,
सुना है प्यार का दर्द मीठा होता है,
तो आँख से निकला आंसू नमकीन क्यूँ है।

Dard Bhari Shayari

Ankhein Toh Pyar Mein Dil Ki Zuban Hoti Hai,
Sachchi Chahat Toh Sada Bezuban Hoti Hai.
Pyar Mein Dard Bhi Mile Toh Mat Ghabrana,
Suna Hai Dard Se Chahat Aur Jawan Hoti Hai.

आँखें तो प्यार में दिल की जुबान होती हैं,
सच्ची चाहत तो सदा बेजुबान होती है,
प्यार में दर्द भी मिले तो मत घबराना,
सुना है दर्द से चाहत और जवान होती है।

Dard Bhari Shayari

Khamoshi Ko Ikhtiyaar Kar Lena,
Apne Dil Ko Thoda Bekarar Kar Lena,
Zindagi Ka Asli Dard Lena Ho Toh,
Bas Kisi Se Bepanah Pyar Kar Lena.

ख़ामोशी को इख़्तियार कर लेना,
अपने दिल को थोडा बेक़रार कर लेना,
जिंदगी का असली दर्द लेना हो तो,
बस किसी से बेपनाह प्यार कर लेना।

Dard Bhari Shayari

Pyar Sabhi Ko Jeena Sikha Deta Hai,
Wafa Ke Naam Pe Marna Sikha Deta Hai,
Pyar Nahi Kiya Toh Karke Dekh Lo Yaar,
Zalim Har Dard Sehna Sikha Deta Hai.

प्यार सभी को जीना सिखा देता है,
वफ़ा के नाम पे मरना सिखा देता है,
प्यार नहीं किया तो करके देख लो यार,
ज़ालिम हर दर्द सहना सिखा देता है।

Dard Bhari Shayari

Zakhm Jo Tune Diya Woh Gehra Diya,
Karke Wada Tune Humko Bhula Diya,
Dard Dene Wale Tera Dil Se Shukriya,
Jo Zindgi Ka Tune Matlab Sikha Diya.

ज़ख्म जो तूने दिया वो गहरा दिया,
करके वादा तूने हमको भुला दिया,
दर्द देने वाले तेरा दिल से शुक्रिया,
जो जिंदगी का तूने मतलब सिखा दिया।

Dard Bhari Shayari

Samajh Mein Kuchh Nahi Aata,
Mohabbat Kis Ko Kehte Hain,
Magar Itna Samajhta Hoon,
Ke Kahin Par Dard UthTa Hai.

समझ में कुछ नहीं आता
मोहब्बत किस को कहते हैं,
मगर इतना समझता हूँ,
के कहीं पर दर्द होता है।

Dard Bhari Shayari

Pyaar Mohabbat Ka Sila Kuchh Nahi,
Ek Dard Ke Siwa Mila Kuchh Nahi,
Saare Armaan Jal Kar Khaak Ho Gaye,
Log Fir Bhi Kahte Hain Jala Kuchh Nahi.

प्यार मुहब्बत का सिला कुछ नहीं,
एक दर्द के सिवा मिला कुछ नहीं,
सारे अरमान जल कर ख़ाक हो गए,
लोग फिर भी कहते हैं जला कुछ भी नहीं।

Dard Bhari Shayari

Dard Bahut Hua Dil Ke Toot Jane Se,
Kuch Na Mila Unke Liye Aansu Bahane Se,
Woh Jante The Wajah Mere Dard Ki,
Phir Bhi Baaz Na Aaye Mujhe Aazmane Se.

दर्द बहुत हुआ दिल के टूट जाने से,
कुछ न मिला उनके लिए आंसू बहाने से,
वो जानते थे वजह मेरे दर्द की,
फिर भी बाज न आये मुझे आजमाने से।

Dard Bhari Shayari

Woh Dard Hi Na Raha,
Warna Aye Mata-E-Hayaat
Mujhe Gumaan Bhi Na Tha
Main Tujhe Bhula Dunga.

वो दर्द ही न रहा
वरना ऐ मता-ए-हयात,
मुझे गुमान भी न था
मैं तुझे भुला दूंगा।

Dard Bhari Shayari

Jis Dil Pe Na Aayi Chot Kabhi
Woh Dard Kisi Ka Kya Jaane,
Khud Shamma Ko Maloom Nahi
Kyon Jal Jate Hain Parwaane.

जिस दिल पे चोट न आई कभी,
वो दर्द किसी का क्या जाने,
खुद शम्मा को मालूम नहीं,
क्यूँ जल जाते हैं परवाने।

Dard Bhari Shayari

Haathon Ki Lakeerein ParhKar
Ro Deta Hai Dil,
SabKuchh Toh Hai Magar
Ek Tera Naam Kyun Nahi Hai.

हाथों की लकीरें पढ़ कर
रो देता है दिल,
सब कुछ तो है मगर
एक तेरा नाम क्यूँ नहीं है।

Dard Bhari Shayari

Kahin Shero-Nagma Ban Ke
Kahin Aansuon Mein Dhal Ke,
Woh Mujhe Mile Toh Lekin
Kayi Sooratein Badal Ke.

कहीं शेरो-नगमा बन के
कहीं आँसुओं में ढल के,
वो मुझे मिले तो लेकिन
कई सूरतें बदल के।

Dard Bhari Shayari

Dard Kitna KhushNasib Hai
Jise PaKar Log Apno Ko Yaad Karte Hain,
Daulat Kitni BadNasib Hai
Jise PaKar Log Aksar Apno Ko Bhool Jate Hain.

दर्द कितना खुशनसीब है
जिसे पाकर लोग अपनों को याद करते हैं,
दौलत कितनी बदनसीब है
जिसे पाकर लोग अक्सर अपनों को भूल जाते है।

Dard Bhari Shayari

Na Kiya Kar Apne Dard Ko
Shayari Mein Bayan Aye Dil,
Kuchh Log Toot Jate Hain,
Ise Apni Daastan SamajhKar.

ना किया कर अपने दर्द को
शायरी में बयान ऐ दिल,
कुछ लोग टूट जाते हैं
इसे अपनी दास्तान समझकर।

Dard Bhari Shayari

Kahne Walo Ka Kuchh Nahi Jata,
Sehne Wale Kamaal Karte Hain,
Kaun Dhoodhe Jawab Dardo Ke,
Log Toh Bas Sawal Karte Hain.

कहने वालों का कुछ नहीं जाता
सहने वाले कमाल करते हैं,
कौन ढूढ़े जवाब दर्दों के
लोग तो बस सवाल करते हैं।

Dard Bhari Shayari

Ab Bas Bhi Kar Zalim
Kuchh Toh Raham Kha Mujh Par,
Chali Ja Meri Najron Se Dur
Kahin Main Shayar Na Ban Jaaun.

अब बस भी कर ज़ालिम
कुछ तो रहम खा मुझ पर,
चली जा मेरी नज़रों से दूर
कहीं मैं शायर ना बन जाऊं।

Dard Bhari Shayari

Bahut Dard Hai Ai Jaan-e-Adaa
Teri Mohabbat Mein,
Kaise Kah Doon Ki Tujhe Wafa
Nibhani Nahi Aati.

बहुत दर्द हैं ऐ जान-ए-अदा
तेरी मोहब्बत में,
कैसे कह दूँ कि तुझे वफ़ा
निभानी नहीं आती।

Dard Bhari Shayari

Hum Ne Kab Manga Hai Tum Se
Apni Wafaon Ka Sila,
Bas Dard Dete Raha Karo
Mohabbat Badati Jayegi.

हम ने कब माँगा है तुम से
अपनी वफ़ाओं का सिला,
बस दर्द देते रहा करो
मोहब्बत बढ़ती जाएगी।

Dard Bhari Shayari

Zindgi Dene Wale Mujhe Marta Chhod Gaye,
Apnapan Jataane Wale Tanha Chhod Gaye,
Jab Padi Jarurat Humein Apne Humsafar Ki,
Wo Jo Saath Chalne Wale Apna Rasta Mod Gaye.

जिंदगी देने वाले मुझे मरता छोड़ गये,
अपनापन जताने वाले तन्हा छोड़ गये,
जब पड़ी जरूरत हमें अपने हमसफर की,
वो जो साथ चलने वाले रास्ता मोड़ गये।

Dard Bhari Shayari

Dard Hai Dil Mein Par Iska Ehsas Nahi Hota,
Rota Hai Dil Jab Woh Paas Nahi Hota,
Barbad Ho Gaye Hum Uske Pyar Mein,
Aur Woh Kehte Hain Iss Tarah Pyaar Nahi Hota.

दर्द है दिल में पर इसका एहसास नहीं होता,
रोता है दिल जब वो पास नहीं होता,
बर्बाद हो गए हम उसके प्यार में,
और वो कहते हैं इस तरह प्यार नहीं होता।

Dard Bhari Shayari

Khud Se Roothhun Toh Kayi Roj Na Khud Se Bolun,
Phir Kisi Dard Ki Deewaar Se Lag Kar Ro Lun.

खुद से रूठूँ तो कई रोज न खुद से बोलूं,
फिर किसी दर्द की दीवार से लग कर रो लूँ।

Dard Bhari Shayari

Main Zindagi Ke Unn Halaton Se Bhi Gujra Hoon,
Jahan Lagta Tha Marna Ab Jaroori Ho Gaya Hai.

मैं ज़िन्दगी के उन हालातों से भी गुजरा हूँ,
जहाँ लगता था मरना अब जरूरी हो गया है।

Dard Bhari Shayari

Bayaan Karna Mohabbat Ko Aasaan Na Hua Tha,
Ye Toh Dard Hai Kaise Kah Du Ki Tumne Diya Hai.

बयाँ करना मोहब्बत को आसान ना हुआ था,
ये तो दर्द है कैसे कह दूँ कि ये तुमने दिया है।

Dard Bhari Shayari

Mere Sajdon Mein Kami Toh Na Thi, Mere Maula,
Kya Mujh Se Bhi Barh Ke Kisi Ne Manga Tha Usey.

मेरे सजदों में कोई कमी तो न थी मेरे मौला,
क्या मुझ से भी बढ़ के किसी ने माँगा था उसे।

Dard Bhari Shayari

Taras Aata Hai Mujhe Apni Masoom Si Palkon Par,
Jab Bheeg Kar Kahti Hain Ke Ab Roya Nahi Jata.

तरस आता है मुझे अपनी मासूम सी पलकों पर,
जब भीग कर कहती है कि अब रोया नहीं जाता।

Dard Bhari Shayari

Meri Har Shayari Dil Ke Dard Ko Karegi Bayaan,
Tumhari Aankh Na Bhar Aaye Kahin Parhte Parhte.

मेरी हर शायरी दिल के दर्द को करेगी बयाँ,
तुम्हारी आँख ना भर आयें कहीं पढ़ते पढ़ते।

Dard Bhari Shayari

Nafarat Karna To Humne Kabhi Seekha Hi Nahi,
Maine To Dard Ko Bhi Chaha Hai Apna Samajh Kar.

नफ़रत करना तो हमने कभी सीखा ही नहीं,
मैंने तो दर्द को भी चाहा है अपना समझ कर।

Dard Bhari Shayari

Maut Aa Rahi Hai Vaade Pe Ya Aa Rahe Ho Tum,
Kam Ho Raha Hai Dard Dil-e-BeQaraar Ka.

मौत आ रही है वादे पे या आ रहे हो तुम,
कम हो रहा है दर्द दिल-ए-बेकरार का।

Dard Bhari Shayari

Khanjar Chale Kisi Pe Toh Tadapte Hain Hum,
Saare Jahaan Ka Dard Humare Jigar Mein Hai.

खंजर चले किसी पे तो तड़पते हैं हम,
सारे जहां का दर्द हमारे जिगर में है।

Dard Bhari Shayari

Kis Se Paimane Wafa Baandh Rahi Hai Bulbul,
Kal Na Pehchan Sakegi Gul-e-Tar Ki Surat.

किससे पैमाने वफ़ा बाँध रही है बुलबुल,
कल न पहचान सकेगी गुल-ए-तर की सूरत।

Dard Bhari Shayari

Tazurbe Ne Hamein Ek Baat Toh Sikhayi Hai,
Ek Naya Dard Hi Purane Dard Ki Dawayi Hai.

तजुर्बे ने हमें एक बात तो सिखाई है,
एक नया दर्द ही पुराने दर्द की दवाई है।

Dard Bhari Shayari

Waqt Har Zakhm Ka Marham Ton Ban Nahi Sakta,
Dard Kuchh Hote Hain Ta-Umr Rulane Wale.

वक़्त हर ज़ख़्म का मरहम तो नहीं बन सकता
दर्द कुछ होते हैं ता-उम्र रुलाने वाले।

Dard Bhari Shayari

Isi Khayal Se Gujri Hai Shaam-e-Gham Aksar,
Ki Dard Had Se Jo Gujrega To Muskura Dunga.

इसी ख्याल से गुज़री है शाम-ए-ग़म अक्सर,
कि दर्द हद से जो गुज़रेगा तो मुस्कुरा दूंगा।

Dard Bhari Shayari

Zakhm De Kar Na Poochh Dard Ki Shiddat,
Dard To Fir Dard Hai Kam Kya Jyada Kya.

ज़ख्म दे कर ना पूछ तू मेरे दर्द की शिद्दत,
दर्द तो फिर दर्द है कम क्या ज्यादा क्या।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *