Hindi Shayari on eyes | Aankhe shayari – 150+

shayari on eyes - देखा है

Dekha Hai Meri Najron Ne
Ek Rang Chhalkte Paimaane Ka,
Yun Khulti Hai Aankh Kisi Ki
Jaise Khule Dar Maikhane Ka.

देखा है मेरी नजरों ने
एक रंग छलकते पैमाने का,
यूँ खुलती है आंख किसी की
जैसे खुले दर मैखाने का।

shayari about eyes - नज़र से नज़र

Aapne Najar Se Najar Jab Mila Di,
Humari Zindgi Jhum Kar Muskura Di,
Jubaan Se Toh Hum Kuchh Bhi Na Kah Sake,
Par Aankhon Ne Dil Ki Kahani Suna Di.

आपने नज़र से नज़र जब मिला दी,
हमारी ज़िन्दगी झूमकर मुस्कुरा दी,
जुबां से तो हम कुछ भी न कह सके,
पर आँखों ने दिल की कहानी सुना दी।

shayari on eyes - बिकती नहीं शराब

Saqi Ko Gila Hai Ke Uski Bikti Nahi Sharab,
Aur Ek Teri Aankehin Hain Hosh Mein Aane Nahi Deti.

साकी को गिला है कि उसकी बिकती नहीं शराब,
और एक तेरी आँखें हैं कि होश में आने नहीं देती।

shayari on eyes - आँख भारी है

Subah Toh Ho Gayi Par Ye Aankh Abhi Bhaari Hai,
Khwaab Koi Nashe Sa Ab Tak Aankhon Mein Hai.

सुबह तो हो गई पर ये अभी आँख भारी है,
ख्बाव कोई नशे सा अब तक आँखों में है।

shayari on eyes - डर रहा हूँ

Main Darr Raha Hun Tumhari Nasheeli Aankhon Se,
Ke Loot Lein Na Kisi Roj Kuchh Pila Ke Mujhe.

मैं डर रहा हूँ तुम्हारी नशीली आँखों से,
कि लूट लें न किसी रोज़ कुछ पिला के मुझे।

shayari on eyes - ताल्लुक

Bahut Bewaak Aankhon Mein Taalluk Tik Nahi Pata,
Mohabbat Mein Kashish Rakhne Ko Sharmana Jaroori Hai.

बहुत बेबाक आँखों में ताल्लुक टिक नहीं पाता,
मोहब्बत में कशिश रखने को शर्माना जरूरी है।

shayari on eyes - गर्दन झुकाने की।

Nigaahon Se Qatal Kar De Na Ho Takleef Dono Ko,
Tujhe Khanjar Uthhane Ki Mujhe Gardan Jhukane Ki.

निगाहों से कत्ल कर दे न हो तकलीफ दोनों को,
तुझे खंजर उठाने की मुझे गर्दन झुकाने की।

shayari on eyes - डूब जाता हूँ

Jaane Kyun Doob Jata Hun Har Bar Inhein Dekh Kar,
Ek Dariya Hain Ya Poora Samandar Hain Teri Aankhein.

जाने क्यों डूब जाता हूँ हर बार इन्हें देख कर,
इक दरिया हैं या पूरा समंदर हैं तेरी आँखें।

shayari on eyes - पढ़ना सीख लो

Agar Kuchh Sikhna Hi Hai,
Toh Aankhon Ko Parhna Seekh Lo,
Varna Lafz Ke Matlab Toh,
Hajaaron Nikaal Lete Hain.

अगर कुछ सीखना ही है,
तो आँखों को पढ़ना सीख लो,
​वरना ​लफ़्ज़ों के मतलब तो,
​हजारों निकाल लेते है।

सेक्सी आदमी वो है जो..

eyes shayari - मसले

Tumhein Kehte The Ke Yeh Lamhe
Najar Milne Se Suljhenge,
Najar Ki Baat Hai Toh Phir
Yeh Lab Khamosh Rehne Do.

तुम्हीं कहते थे कि यह मसले
नजर मिलने से सुलझेंगे,
नजर की बात है तो फिर
यह लब खामोश रहने दो।

shayari on eyes - उनका आलम

Uss Ghadi Dekho Unka Aalam,
Neend Se Jab Hon Bhojhal Aakhein,
Kaun Meri Najar Mein Samaaye,
Dekhi Hain Maine Tumhari Aankhein.

उस घड़ी देखो उनका आलम
नींद से जब हों बोझल आँखें,
कौन मेरी नजर में समाये
देखी हैं मैंने तुम्हारी आँखें।

Create your own Website

shayari on eyes - सारा जहाँ

Uss Ki Udaas Aankhon Mein Najar Aata Tha
Saara Jahaan Mujh Ko,
Afsos Unn Aankhon Mein Kabhi
Khud Ko Nahi Dekha Maine.

उस की आँखों में नज़र आता था
सारा जहाँ मुझ को,
अफ़सोस उन आँखों में कभी
खुद को नहीं देखा मैंने।

shayari on eyes - वाइज़-ए-नादाँ

Aye Waiz-e-Nadaan Karta Hai
Tu Ek Qayamat Ka Charcha,
Yehan Roj Nigaahein Milti Hain
Yehan Roj Qayamat Hoti Hai.

ऐ वाइज़-ए-नादाँ करता है
तू एक क़यामत का चर्चा,
यहाँ रोज़ निगाहें मिलती हैं
यहाँ रोज़ क़यामत होती है।

अमीर कैसे बने - Ameer Kaise bane.

shayari on eyes - सवाल थे मेरे

Itne Sawaal The Mere Paas Ke
Meri Umar Se Na Simat Sake,
Jitne Jawaab The Tere Paas Sabhi
Teri Ek Nigah Mein Aa Gaye.

इतने सवाल थे मेरे पास कि
मेरी उम्र से न सिमट सके,
जितने जवाब थे तेरे पास सभी
तेरी एक निगाह में आ गए।

shayari on eyes - मुस्कुराती हुई आँखें

Yeh Muskurati Huyi Aankhein
Jin Mein Raks Karti Hai Bahaar,
Shafaq Ki, Gul Ki,
Bijliyon Ki Shokhiyan Liye Huye.

यह मुस्कुराती हुई आँखें
जिनमें रक्स करती है बहार,
शफक की, गुल की,
बिजलियों की शोखियाँ लिये हुए।

shayari on eyes - नज़रें चुरा लेती है

Jab Bhi Dekhun Toh Nazarein Chura Leti Hai Wo,
Maine Kagaz Par Bhi Bana Ke Dekhi Hain Aankhein Uski.

जब भी देखूं तो नज़रें चुरा लेती है वो,
मैंने कागज़ पर भी बना के देखी हैं आँखें उसकी।

shayari on eyes - निगाहों ने सुलूक

Kya Kahein, Kya Kya Kiya, Teri Nigaahon Ne Sulook,
Dil Mein Aayi Dil Mein Thhehri Dil Mein Paikaan Ho Gayi.

क्या कहें, क्या क्या किया, तेरी निगाहों ने सुलूक,
दिल में आईं दिल में ठहरीं दिल में पैकाँ हो गईं।

shayari on eyes - तौहीन

Teri Aankhon Ki Tauheen Nahi Toh Aue Kya Hai Yeh,
Maine Dekha Tere Chahne Wale Kal Sharab Pee Rahe The.

तेरी आँखों की तौहीन नहीं तो और क्या है यह,
मैंने देखा तेरे चाहने वाले कल शराब पी रहे थे।

shayari on eyes - गुत्थियाँ

Bina Puchhe Hi Sulajh Jati Hai Sawalon Ki Gutthiyan,
Kuchh Aankhein Itni Hazr-Jawaab Hoti Hain.

बिना पूछे ही सुलझ जाती हैं सवालों की गुत्थियाँ,
कुछ आँखें इतनी हाज़िर-जवाब होती हैं।

shayari on eyes - खूबसूरत आँखों में

Ishq Ke Phool Khilte Hain Teri KhoobSurat Aankhon Mein,
Jahan Dekhe Tu Ek Najar Wahan Khushboo Bikhar Jaaye.

इश्क के फूल खिलते हैं तेरी खूबसूरत आँखों में,
जहाँ देखे तू एक नजर वहाँ खुशबू बिखर जाए।

shayari on eyes - आँखों के जादू से

Teri Aankho Ke Jadoo Se
Tu Khud Nahi Hai Waqif,
Yeh Use Bhi Jeena Sikha Deti Hain
Jise Marne Ka Shauk Ho.

तेरी आँखों के जादू से
तू ख़ुद नहीं है वाकिफ़
ये उसे भी जीना सिखा देती हैं
जिसे मरने का शौक़ हो।

क्या करें कि लड़की आपसे प्यार करें!!

shayari on eyes - नशा जरूरी है

Nasha Jaroori Hai Zindagi Ke Liye,
Par Sirf Sharab Hi Nahi Hai Bekhudi Ke Liye,
Kisi Ki Mast Nigaahon Mein Doob Jaao,
Bada Haseen Samandar Hai Khudkhushi Ke Liye.

नशा जरूरी है ज़िन्दगी के लिए,
पर सिर्फ शराब ही नहीं है बेखुदी के लिए,
किसी की मस्त निगाहों में डूब जाओ,
बड़ा हसीं समंदर है ख़ुदकुशी के लिए।

shayari on eyes - गुलाब जैसा

Mahekta Hua Jism Tera Gulaab Jaisa Hai,
Neend Ke Safar Mein Tu Ek Khwaab Jaisa Hai,
Do Ghoont Pee Lene De Aankhon Ke Iss Pyaale Se,
Nashaa Teri Aankhon Mein Sharab Jaisa Hai.

महकता हुआ जिस्म तेरा गुलाब जैसा है,
नींद के सफर में तू एक ख्वाब जैसा है,
दो घूँट पी लेने दे आँखों के इस प्याले से,
नशा तेरी आँखों का शराब जैसा है।

shayari on eyes - उठती नहीं है

UthhTi Nahi Hai Aankh Kisi Aur Ki Taraf,
Paband Kar Gayi Hai Kisi Ki Najar Mujhe,
Imaan Ki Toh Ye Hai Ke Imaan Ab Kahan,
Kafir Banaa Gayi Teri Kafir Najar Mujhe.

उठती नहीं है आँख किसी और की तरफ,
पाबन्द कर गयी है किसी की नजर मुझे,
ईमान की तो ये है कि ईमान अब कहाँ,
काफ़िर बना गई तेरी काफ़िर-नज़र मुझे।

shayari on eyes - मेरी रूह में

Utar Chuki Hai Meri Rooh Mein Kisi Ki Nigah,
Tadap Rahi Hai Meri Zindagi Kisi Ke Liye.

उतर चुकी है मेरी रूह में किसी की निगाह,
तड़प रही है मेरी ज़िंदगी किसी के लिए।

shayari on eyes - निगाहें मगर

Kuchh Nahin Kehti Nigahein Magar,
Baat Pahuchi Hai Kahan Se Kahan.

कुछ नहीं कहती निगाहें मगर,
बात पहुँची है कहाँ से कहाँ।

shayari on eyes - शोख निगाहों का

Kya Puchhte Ho Shokh Nigahon Ka Majra,
Do Teer The Jo Mere Jigar Mein Utar Gaye.

क्या पूछते हो शोख निगाहों का माजरा,
दो तीर थे जो मेरे जिगर में उतर गये।

shayari on eyes - मुझको देख

Nigah-e-Lutf Se Ek Baar Mujhko Dekh Lete Hain,
Mujhe Bechain Karna Jab Unhen Manjoor Hota Hai.

निगाहे-लुत्फ से इक बार मुझको देख लेते है,
मुझे बेचैन करना जब उन्हें मंजूर होता है।

shayari on eyes - सौ उम्मीदें

Sau Sau Ummidein Bandhti Hain, Ik Ik Nigah Par,
Mujhko Na Aise Pyar Se Dekha Kare Koyi.

सौ सौ उम्मीदें बंधती है, इक-इक निगाह पर,
मुझको न ऐसे प्यार से देखा करे कोई।

shayari on eyes - गुस्ताख

Phir Na Keeje Meri Gustakh Nigahon Se Gila,
Dekhiye Aapne Phir Pyar Se Dekha Mujhko.

फिर न कीजे मेरी गुस्ताख निगाहों का गिला,
देखिये आपने फिर प्यार से देखा मुझको।

shayari on eyes - तेरी निगाह से

Teri Nigaah Se Aisi Sharab Pee Maine,
Phir Na Hosh Ka Daava Kiya Kabhi Maine,
Woh Aur Honge Jinhein Maut Aa Gayi Hogi,
Nigaah-e-Yaar Se Payi Hai Zindagi Maine.

तेरी निगाह से ऐसी शराब पी मैंने,
फिर न होश का दावा किया कभी मैंने,
वो और होंगे जिन्हें मौत आ गई होगी,
निगाह-ए-यार से पाई है जिन्दगी मैंने।

shayari on eyes - खंजर अजीब है

Mehfil Ajeeb Hai Na Yeh Manzar Ajeeb Hai,
Jo Usne Chalaya Woh Khanjar Ajeeb Hai,
Na Doobne Deta Hai Na Ubarne Deta Hai,
Uski Aankhon Ka Woh Samandar Ajeeb Hai.

महफिल अजीब है, ना ये मंजर अजीब है,
जो उसने चलाया वो खंजर अजीब है,
ना डूबने देता है, ना उबरने देता है,
उसकी आँखों का वो समंदर अजीब है।

shayari on eyes - झाँकने से पहले

Meri Aankho Mein Jhankne Se Pehle,
Jara Soch Lijiye Aye Huzoor…
Jo Humne Palke Jhuka Li Toh Qayamat Hogi,
Aur Humne Nazrein Mila Li Toh Mohabbat Hogi.

मेरी आँखों में झाँकने से पहले,
जरा सोच लीजिये ऐ हुजूर…
जो हमने पलके झुका ली तो कयामत होगी,
और हमने नजरें मिला ली तो मुहब्बत होगी।

shayari on eyes - मेरे होठों ने

Mere Honthhon Ne Har Baat Chhupa Rakhi Thi,
Aankhon Ko Ye Hunar Kabhi Aaaya Hi Nahin.

मेरे होठों ने हर बात छुपा कर रखी थी,
आँखों को ये हुनर कभी आया ही नहीं।

shayari on eyes - मिटाए नहीं मिटता

Ab Tak Meri Yaadon Se Mitaaye Nahi MitTa,
Bhigi Hui Ik Shaam Ka Manzar Teri Aankhein.

अब तक मेरी यादों से मिटाए नहीं मिटता,
भीगी हुई इक शाम का मंज़र तेरी आँखें।

hindi shayari on eyes - देख लो

Adaa Se Dekh Lo Jaata Rahe Gila Dil Ka,
Bas Ik Nigaah Pe Thhehra Hai Faisla Dil Ka.

अदा से देख लो जाता रहे गिला दिल का,
बस इक निगाह पे ठहरा है फ़ैसला दिल का।

hindi shayari on eyes - गहराई

Jaati Hai Iss Jheel Ki Gehraayi Kahan Tak,
Aankhon Mein Teri Doob Ke Dekhenge Kisi Roj.

जाती है इस झील की गहराई कहाँ तक,
आँखों में तेरी डूब के देखेंगे किसी रोज।

hindi shayari on eyes - राज कई

Khulte Hain Mujh Pe Raaz Kayi Iss Jahan Ke,
UsKi Haseen Aankhon Mein Jab Jhankta Hoon Main.

खुलते हैं मुझ पे राज कई इस जहान के,
उसकी हसीन आँखों में जब झाँकता हूँ मैं।

hindi shayari on eyes - बड़ी मुश्किल से

Raat Badi Mushkil Se Khud Ko Sulaya Hai Maine,
Apni Aankho Ko Tere Khwab Ka Laalach Dekar.

रात बड़ी मुश्किल से खुद को सुलाया है मैंने,
अपनी आँखों को तेरे ख्वाब का लालच देकर।

hindi shayari on eyes - मिलायेंगे नज़र

Milayenge Najar Kis Se
Ke Wah BeDeed Hain Aise,
Nahi Aayina Mein Aankhein
Milaate Apni Aankho Se,
Jo Wah Aankhon Mein Aaya
Kaun Usko Dekh Sakta Tha,
Kasam Aankhon Ki Hum Usko
Chhupate Apni Aankhon Se,
Zafar Giriya Humara
Kuchh Na Kuchh Taseer Rakhta Hai,
Unhein Hum Dekhte Hain
Muskurate Apni Aankhon Se.

मिलायेंगे नज़र किससे
कि वह बेदीद हैं ऐसे,
नहीं आईना में आँखें
मिलाते अपनी आँखों से.
जो वह आँखों में आया
कौन उसको देख सकता था,
क़सम आँखों की हम उसको
छुपाते अपनी आँखों से
ज़फ़र गिरिया हमारा
कुछ-न-कुछ तासीर रखता है,
उन्‍हें हम देखते हैं
मुस्कुराते अपनी आँखों से।

hindi shayari on eyes - फर्जे-गोयाई

Adaa Nigaahon Se Hota Hai Farz-e-Goyai,
Jubaan Ki Hadd Se Jab Shauk-e-Bayaan Gujrata Hai.

अदा निगाहों से होता है फर्जे-गोयाई,
जुबां की हद से जब शौके-बयां गुजरता है।

hindi shayari on eyes - नील कंवल

Log Kehte Hain Jinhein Neel-Kanwal Wo Toh Qateel,
Shab Ko Inn Jheel Si Aankhon Mein Khila Karte Hain.

लोग कहते हैं जिन्हें नील कंवल वो तो क़तील,
शब को इन झील सी आँखों में खिला करते है।

hindi shayari on eyes - मैखाने पर

Mast Aankhon Par Ghani Palkon Ki Chhaya Yun Thi,
Jaise Ki Ho Maikhane Par Ghanghor Ghata Chhayi Huyi.

मस्त आंखों पर घनी पलकों की छाया यूँ थी,
जैसे कि हो मैखाने पर घरघोर घटा छाई हुई।

hindi shayari on eyes - दो पियालों में

Uski Kudrat Dekhta Hun Teri Aankhein Dekhkar,
Do Piyalon Mein Bhari Hai Kaise Lakhon Man Sharab.

उसकी कुदरत देखता हूँ तेरी आँखें देखकर,
दो पियालों में भरी है कैसे लाखों मन शराब।

hindi shayari on eyes - शोखी खुदा ने

Ek Si Shokhi Khuda Ne Di Hai Husno-Ishq Ko,
Fark Bas Itna Hai Wo Aankhon Mein Hai Yeh Dil Mein Hai.

एक सी शोखी खुदा ने दी है हुस्नो-इश्क को,
फर्क बस इतना है वो आंखों में है ये दिल में है।

hindi shayari on eyes - ढूंढो सनम

Aankhon Mein Na Hamko Dhoondho Sanam,
Dil Mein Ham Bas Jaenge,
Chahat Hai Agar Milne Ki To,
Soti Aankhon Mein Bhi Ham Nazar Aaenge.

आँखों में ना हमको ढूंढो सनम,
दिल में हम बस जाएंगे,
चाहत है अगर मिलने की तो,
सोती आँखों में भी हम नज़र आएंगे।

hindi shayari on eyes - मेरी आँखों में

Kabhi Yun Bhi Aa Meri Aankhon Mein,
Ki Meri Aankhon Ko Khabar Na Ho,
Tujhe Bhoolne Ki Duayen Karoon,
To Duaon Mein Meri Asar Na Ho.

कभी यूँ भी आ मेरी आँखों में,
कि मेरी आँखों को खबर न हो,
तुझे भूलने की दुआयें करूँ,
तो दुआओं में मेरी असर ना हो।

hindi shayari on eyes - इंकार नहीं

Deewane Hain Tere, Is Baat Se Inkaar Nahin,
Kaise Kahen Ki Hamen Tumse Pyar Nahin,
Kuchh To Kasoor Hai Teri In Aankhon Ka,
Ham Akele To Gunhagaar Nahin.

दीवाने हैं तेरे, इस बात से इंकार नहीं,
कैसे कहें कि हमें तुमसे प्यार नहीं,
कुछ तो कसूर है तेरी इन आँखों का,
हम अकेले तो गुनहगार नहीं।

hindi shayari on eyes - तेरी चौखट

Ham Nahi Aate Is Dar Se Teri Chaukhat Par Mere Hamdam,
Suna Hai Teri Jadoo Bhari Aankhon Ka Tona Bada Mashhoor Hai.

हम नही आते इस डर से तेरी चौखट पर मेरे हमदम,
सुना है तेरी जादू भरी आँखों का टोना बडा मशहूर है।

hindi shayari on eyes - आखों में

Kisi Ne Dhool Kya Jhonki Aakhon Mein,
Pahle Se Behtar Dikhne Laga Hamein.

किसी ने धूल क्या झोंकी आखों में,
पहले से बेहतर दिखने लगा हमें।

shayari about eyes - आँखों के मैख़ाने

Main Un Aankhon Ke Maikhaane Mein Kuchh Der Baitha Tha,
Mujhe Duniya Nashe Ka Aaj Bhi Aadi Batati Hai.

मैं उन आँखों के मैख़ाने में कुछ देर बैठा था,
मुझे दुनिया नशे का आज भी आदी बताती है।

shayari about eyes - मैखाने में

Jo Soorur Hai Teri Aankhon Mein Vo Baat Kahaan Maikhane Mein,
Bas Tu Mil Jaye To Phir Kya Rakha Hai Zamane Mein.

जो सूरुर है तेरी आँखों में वो बात कहां मैखाने में,
बस तू मिल जाए तो फिर क्या रखा है ज़माने में।

shayari about eyes - दस्तख़त

Aankhon Par Teri Nigahon Ne Dastkhat Kya Kie,
Hamne Sanson Ki Vasiyat Tumhare Naam Kar Di.

आँखों पर तेरी निगाहों ने दस्तख़त क्या किए,
हमने साँसों की वसीयत तुम्हारे नाम कर दी।

shayari about eyes - सुनते रहे...

Wo Bolte Rahe… Ham Sunte Rahe…
Jawaab Aankhon Mein Tha Wo Jubaan Mein Dhoondhte Rahe.

वो बोलते रहे… हम सुनते रहे…
जवाब आँखों में था वो जुबान में ढूंढते रहे।

shayari about eyes - कहानी मेरी

Dhoondhte Kya Ho… Aankhon Mein Kahani Meri,
Khud Mein Khoye Rahna To Aadat Hai Purani Meri.

ढूंढते क्या हो… आँखों में कहानी मेरी,
खुद में खोये रहना तो आदत है पुरानी मेरी।

shayari about eyes - लफ़्ज़ सारे

Shayari Mein Jo Likhe The Lafz Sare Fheeke Se The Mere,
Shayari To Darsal… Teri Un Aankhon Mein Thi.

शायरी में जो लिखे थे लफ़्ज़ सारे फीके से थे मेरे,
शायरी तो दरअसल… तेरी उन आँखों में थी।

shayari about eyes - करिश्मा

Karishma Zaroor Hai… Aankhon Mein Teri Koi,
Tu Jisko Dekhle Vo Bahakta Zaroor Hai.

करिश्मा ज़रूर है… आँखों में तेरी कोई,
तू जिसको देखले वो बहकता ज़रूर है।

shayari about eyes - हया

In Ras Bhari Aankhon Mein Haya Khel Rahi Hai,
Do Zahar Ke Pyalon Mein Qaza Khel Rahi Hai.

इन रस भरी आंखों में हया खेल रही है,
दो ज़हर के प्यालों में क़ज़ा खेल रही है।

shayari on eyes - उतर जाएगा

Aankh Se Door Na Ho Dil Se Utar Jaega,
Waqt Ka Kya Hai Gujarta Hai Gujar Jaega.

आँख से दूर न हो दिल से उतर जाएगा
वक़्त का क्या है गुजरता है गुजर जाएगा।

shayari on eyes - लकीरें उनकी

Dekhkar Kajal Ki Lakeeren Unki Aankhon Mein,
Pahli Dafa Ye Jana Ki Ye Chaand Ki Khoobsurati Raat Se Kyun Hai.

देखकर काजल की लकीरें उनकी आँखों में,
पहली दफ़ा ये जाना कि ये चाँद की ख़ूबसूरती रात से क्यूं है।

shayari on eyes - धड़कता है

Mili Jab Bhi Nazar Unse, Dhadkata Hai Hamara Dil,
Pukaare Wo Udhar Humko, Idhar Dum Kyu Nikalta Hai.

मिली जब भी नजर उनसे, धड़कता है हमारा दिल,
पुकारे वो उधर हमको, इधर दम क्यों निकलता है।

shayari on eyes - नजर तेरा

Sau Teer Zamane Ke Ek Teer-e-Najar Tera,
Ab Kya Koyi Samjhega Dil Kiska Nishana Hai.

सौ तीर जमाने के इक तीरे नजर तेरा,
अब क्या कोई समझेगा दिल किसका निशाना है?

shayari on eyes - तेरी नजर

Shamil Hain Isme Teri Najar Ke Saroor Bhi,
Peene Na Dunga Gair Ko Main Apne Jaam Se.

शामिल है इसमें तेरी नजर के सरूर भी,
पीने न दूँगा गैर को मैं अपने जाम से।

shayari on eyes - सरे मैकदा

Woh Najar Uth Gayi Jab Sare Maiqada,
Khud-Ba-Khud Jaam Se Jaam Takra Gaye.

वह नजर उठ गई जब सरे मैकदा,
खुद-ब-खुद जाम से जाम टकरा गये।

shayari on eyes - निगाहें

Najar Jiski Taraf Karke Nihagein Fer Lete Ho,
Qayamat Tak Uss Dil Ki Pareshani Nahi Jahi.

नजर जिसकी तरफ करके निगाहें फेर लेते हो,
कयामत तक उस दिल की परेशानी नहीं जाती।

shayari on eyes - हसीन नजर

Bas Ek Lateef Tabassum Bas Ek Haseen Najar,
Mareej-e-Gam Ki Halat Sudhar To Sakti Hai.

बस इक लतीफ तबस्सुम बस इक हसीन नजर,
मरीजे-गम की हालत सुधर तो सकती है।

shayari on eyes - कोई दे सका

Main Umra Bhar Jinka Na De Saka Jawab,
Woh Ek Najar Mein Itne Sawalat Kar Gaye.

मैं उम्र भर जिनका न कोई दे सका जवाब,
वह इक नजर में, इतने सवालात कर गये।

eyes shayari - मस्त आँखों से

Khuda Bachaye Teri Mast-Mast Aankhon Se,
Farishta Ho Toh Bahek Jaye Aadmi Kya Hai.

ख़ुदा बचाए तेरी मस्त-मस्त आँखों से,
फ़रिश्ता हो तो बहक जाए आदमी क्या है।

eyes shayari - आँखें भरकर

Dekho Na Aankhein Bhar Ke Kisi Ki Taraf Kabhi,
Tumko Khabar Nahi Jo Tumhari Najar Mein Hai.

देखो न आँखें भरकर किसी के तरफ कभी,
तुमको खबर नहीं जो तुम्हारी नजर में हैं।

eyes shayari - कोई दीवाना

Koyi Deewana Daurh Ke Lipat Na Jaye Kahin,
Aankho Mein Aankhein Daal Kar Dekha Na Kijiye.

कोई दीवाना दौड़ के लिपट न जाये कहीं,
आँखों में आँखें डालकर देखा न कीजिए।

eyes shayari - राजे-इश्को-मुहब्बत

Hota Hai Raz-e-Ishq-o-Mohabbat Inhi Se Fash,
Aankhein Jubaan Nahi Hain Magar Bejubaan Nahi.

होता है राजे-इश्को-मुहब्बत इन्हीं से फाश,
आँखें जुबाँ नहीं है मगर बेजुबाँ नहीं।

eyes shayari - जाम आँखें थीं

Ye Kaynat Surahi Thi, Jaam Ankhein Thi,
Muwasalat Ka Pehla Nizam Ankhein Thi.

ये कायनात सुराही थी, जाम आँखें थीं,
मुवसलत का पहला निज़ाम आँखें थीं।

shayari on eyes - पैगाम दिया है

Paigam Liya Hai Kabhi Paigam Diya Hai,
Aankhon Ne Mohabbat Mein Bada Kaam Kiya Hai.

पैगाम लिया है कभी पैगाम दिया है,
आँखों ने मोहब्बत में बड़ा काम किया है।

shayari on eyes - नाकाफी लगे

Tamaam Alfaz NaKafi Lage Mujhko,
Ek Teri Aankhon Ko Bayaan Karne Mein.

तमाम अल्फाज़ नाकाफी लगे मुझको,
एक तेरी आँखों को बयां करने में।

shayari about eyes - शराब आँखें,

Mujhse Kehti Thi Wo Sharab Aankhein,
Aap Wo Zeher Mat Piya Kijiye.

मुझ से कहती थीं वो शराब आँखें,
आप वो ज़हर मत पिया कीजिये।

shayari about eyes - आँखों से बयां

Jo Unki Aankho Se Bayaan Hote Hain,
Woh Lafz Shayari Mein Kahan Hote Hain.

जो उनकी आँखों से बयां होते हैं,
वो लफ्ज़ शायरी में कहाँ होते हैं।

shayari about eyes - अनजान राहों में

Hum Bhatkte Rahe The Anjaan Raahon Mein,
Raat Din Kaat Rahe The Yun Hi Bas Aahon Mein,
Ab Tamanna Huyi Hai Phir Se Jeene Ki Humein,
Kuchh Baat Toh Hai Sanam Teri Inn Nigahon Mein.

हम भटकते रहे थे अनजान राहों में,
रात दिन काट रहे थे यूँ ही बस आहों में,
अब तमन्ना हुई है फिर से जीने की हमें,
कुछ तो बात है सनम तेरी इन निगाहों में।

shayari about eyes - नशीली आँखों से

Nasheeli Aankho Se Wo Jab Hamen Dekhte Hain,
Hum Ghabra Ke Aankhe Jhuka Lete Hain,
Kaun Milaaye Un Aankhon Se Aankhen,
Suna Hai Wo Aankhon Se Apna Bana Lete Hai.

नशीली आँखों से वो जब हमें देखते हैं,
हम घबरा कर आँखें झुका लेते हैं,
कौन मिलाये उन आँखों से आँखें,
सुना है वो आँखों से अपना बना लेते हैं।

shayari about eyes - आँखों को देख के

Sirf Aankhon Ko Dekh Ke, Kar Li Unse Mohabbat,
Chhod Diya Apne Muqaddar Ko Uske Naqaab Ke Peechhe.

सिर्फ आँखों को देख के कर ली उनसे मोहब्बत,
छोड़ दिया अपने मुक़द्दर को उसके नक़ाब के पीछे।

shayari about eyes - हया हो तो

Aankhon Mein Haya Ho Toh
Parda Dil Ka Hi Kafi Hai,
Nahi Toh Naqaab Se Bhi Hote Hain
Ishare Mohabbat Ke.

आँखों में हया हो तो
पर्दा दिल का ही काफी है,
नहीं तो नक़ाब से भी होते हैं,
इशारे मोहब्बत के।

shayari on eyes - जीना मुहाल

Jeena Muhal Kar Rakha Hai Meri Inn Aankho Ne,
Khuli Ho To Talaash Teri Band Ho To Khwab Tere.

जीना मुहाल कर रखा है मेरी इन आँखों ने,
खुली हो तो तलाश तेरी बंद हो तो ख्वाब तेरे।

shayari on eyes - मत पूछो

Kya Kashish Thi Uss Ki Aankho Mein Mat Poochho,

Mujhse Mera Dil Larh Pada Mujhe Yehi Chahiye.

क्या कशिश थी उस की आँखों में मत पूछो.

मुझ से मेरा दिल लड़ पड़ा मुझे यही चाहिये?

 

shayari on eyes - दबी-दबी

Koi Aag Jaise Kohre Mein Dabi-Dabi Si Chamke,
Teri Jhilmilati Aankhon Mein Ajeeb Sa Shama Hai.

कोई आँख जैसे कोहरे में दबी-दबी सी चमके,
तेरी झिलमिलाती आँखों में अजीब सा शमा है।

Hindi shayari on eyes - खुदगर्ज़ हूँ

Main KhudGaraz Hoon Itna Ke Bas Yahi Chaahun,
Rahein Hamesha Meri Muntazir Teri Aankhein.

मैं खुदगर्ज़ हूँ इतना कि बस यही चाहूँ,
रहें हमेशा मेरी मुन्तज़िर तेरी आँखें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *